डिटेंशन सेंटर (Detention Center) क्या है जानिए 

0
68
Detention Center

आप सभी को बता दे कि भारत में रोजाना जो जनसख्या बढ़ती जा रही है जिससे तनाव बढ़ता जा रहा है इसके पीछे क्या कारण है इसमें कोई पहचान नहीं पा रहा है परंतु पहली मोदी सरकार आई है जिन्होंने भारत में डिटेंशन सेंटर Detention Center बनाने की बात कही है जब से मोदी सरकार ने डिटेंशन सेंटर की घोषणा की है सबके मन में बहुत खुशी है डिटेंशन सेंटर detention center क्या होता है इसके क्या फायदे हैं चलिए इसके बारे में आपको बताते हैं.

डिटेंशन सेंटर detention center क्या है?

आपको बता दें कि डिटेंशन सेंटर कुछ ऐसा सेंटर होते हैं जो लोग बहार देश से है जिसे हम घुसपैठिया भी कहते हैं उनको रखा जाता है जिनके पास भारत में रहने के लिए किसी प्रकार का कोई कागज नहीं होते जैसे कि वीजा भी नहीं होता है ऐसे लोगों को डिटेंशन सेंटर Detention Center में रखा जाता है इन लोगों को नजरबंद कर के रखा जाता है है परंतु जेल नहीं कहा जा सकता है इन्हे भारत के नागरिकता नहीं दी जाती उन्हें घुसपैठियों के रूप में भारत में रहने के लिए रखा जाता है क्योंकि उनके पास ऐसी कोई जानकारी नहीं होती कि वह भारत के निवासी हैं जिससे कि भारत में रह सके उन पर व्यक्तियों पर कार्रवाई की जाती है और उनकी पूरी जल पड़ताल करने के बाद उन्हें डिटेंशन सेंटर में रखी जाती है जिसे हम डिटेंशन सेंटर Detention Centerकहते हैं.

Also Read: Nifty ko Hindi me Kya Kehte Hai? What is Called Nifty in Hindi?

डिटेंशन सेंटर का क्या उद्देश है 

आपको बता दें कि डिटेंशन सेंटर का मुख्य उद्देश्य द फॉरेनर्स एक्ट के सेक्शन 3(2)(सी), पासपोर्ट न होने वाले विदेशों से आने वाले लोगों को नजर बंद करके रखने की प्रक्रिया को हम डिटेंशन सेंटर कहते हैं कुछ लोग वीजा अवधि खत्म होने के बाद भी यहां रुक जाते हैं या फर्जी पासपोर्ट के जरिए घुस जाते हैं उन्हें जिस डिटेंशन सेंटर में रखा जाता है ऐसे लोगों पकड़े जाने पर कानून की तरफ से कार्रवाई की जाती है और जल पड़ताल करने के बाद उन्हें डिटेंशन सेंटर में रखकर उन्हें प्रदेश भेजने के लिए सरकार प्रयास करती है.

भारत में अवैध नागरिकों क्यों रखा जाता है डिटेंशन सेंटर में 

आपको बता दें कि दूसरे देश से आने वाले अवैध नागरिकों की को पहचान होने पर उन्हें 6 महीने के अंदर तुरंत उन्हें उनके देश भेजने की तैयारी की जाती है वह उन्हें अदालत भी ले जा सकते हैं यहां से विदेशों से पहचान घोषित किए जाने के बाद उन्हें डिटेंशन सेंटर में रखा जाता है ताकि उन्हें कोई समस्या ना हो सरकार इसके लिए दोनों देशों के बीच बात करती है बातचीत ठीक हो जाने के बाद उन्हें डिटेंशन सेंटर से उनके देश रिपोर्ट कर दिया जाता है इसलिए उन्हें अवैध तरीके से भारत में रखा जाता है। 

भारत में कितने डिटेंशन सेंटर है 

आपको बता दें कि भारत में इस समय नौ सेंटर है जिसमें से 6 असम में है यह सब सेंट्रल जेल में बने हुए हैं यह 6 डिटेंशन सेंटर असम के तेजगढ़ जोरहाट डिब्रूगढ़ तिलवारा आदि जिलों में बने हुए इसके अलावा यह बेंगलुरु गोवा दिल्ली में भी असम बना हुआ है। बेंगलुरु में भी डिटेंशन सेंटर खोले जाने की मंजूरी दी जा चुकी है। आपको बता दें कि असम के 6 जिलों के डिटेंशन सेंटर में केवल 1000 अवैध नागरिकों को रखे जाने की क्षमता थी जबकि इसमें विदेशी 1133 नागरिक को रखा गया है.

Also Read: Resistance ko Hindi me Kya Kehte Hai? What is Called Resistance in Hindi?

भारत किस जगह पर रहा है सबसे बड़ा डिटेंशन सेंटर 

आपको बता दें कि भारत का सबसे बड़ा और दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा डिटेंशन सेंटर असम में बन रहा है इसका निर्माण बीते साल 2018 से शुरू हो चुका है अब तक इसका 70% काम पूरा हो गया है यह डिटेंशन सेंटर ढाई एकड़ जमीन पर बना हुआ जिसमें 3000 लोगों को एक साथ रखा जा सकता है इसके अलावा महिला और पुरुषों के लिए अलग-अलग जले बनाई गई हैं जिसमें उन्हें अलग-अलग सेवाएं दी जा सके आपको बता दें कि इसे 31 दिसंबर 2020 तक इसका काम पूरा होना था लेकिन बारिश और बाढ़ की वजह से यह काम नहीं हो पाया इस काम में देरी हो गई अब इस काम को पूरा करने के लिए 300 और अधिक मजदूर लगे पड़े हैं लेकिन जो इसकी डेडलाइन रखी गई थी 31 दिसंबर बरसात हो गई लेकिन लाइन को बढ़ाकर 31 मार्च कर दिया गया। 

आपको बता दें कि इसमें चार चार मंजिल वाली 15 इमारतें बनाई जा रही हैं जिसमें 13 इमारतों में पुरुष रहेंगे बाकी दो इमारतों में महिलाओं को रखा जाएगा साथ ही इस में स्कूल और अस्पताल में खुले जाएंगे। यदि कोई नागरिक जातक समर्थक रहता है और उसकी इच्छा स्कूल में पढ़ाई करने की वह पढ़ाई कर सकता है और यदि वह बीमार होता है तो वह अस्पताल में जाकर अपना इलाज भी करा सकता है.

डिटेंशन सेंटर Detention Center में दी जाने वाली सुविधाएं 

आपको बता दें कि डिटेंशन सेंटर Detention Center में रखने रखने वाले सभी विदेशी नागरिकों को उनकी प्रत्येक सुविधाओं के आधार पर सभी चीजों ने दी जाती है महिलाओं बच्चों को विशेष रुप से सुविधाएं दी जाती हैं यदि बच्चों को पढ़ाने लिखाने के लिए स्कूल चाहिए तो वह उन्हें स्कूल की देती है। डिटेंशन सेंटर Detention Center में रहने के लिए कमरे रोशनी और हवा से भरपूर होते हैं वहां पर रहने वाले लोगों के लिए साफ-सफाई बिजली की व्यवस्था अच्छी प्रकार से होती है , ऐसे में डिटेंशन सेंटर Detention Center में विदेश जाने वाली प्रताड़ना से बच जाता है.ताकि उन्हें किसी मुसीबत का सामना न करना पड़े। पुरुष और महिला को उनके लिंग के आधार रखा जाता है।

आपका हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके बता सकते हैं यदि आप कोई पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को शेयर कर सकते हैं ताकि दूसरों को भी इसके बारे में पता चल सके.

Also Read: OLED ka Full Form Kya Hota Hai? What is the Full Form of OLED?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here