Thursday, August 11, 2022
Homefull formsRDX का फुल फॉर्म क्या होता है ?

RDX का फुल फॉर्म क्या होता है ?

हमारे देश की सेवा के लिए हमारे देश के जवान हर समय सीमा पर तैनात रहते हैं, ताकि कोई दूसरा देश हमारे देश पर हमला न कर सके। इसलिए हमारे देश की रक्षा के लिए हर साल बड़ी संख्या में लोगों को सेना में भर्ती किया जाता है। ये वो जवान हैं जो सेना में कार्यरत हैं, जिनका जीवन हमेशा खतरों से घिरा रहता है, वे नहीं जानते कि वे कब देश के लिए शहीद हो जाएंगे, क्योंकि वे हमेशा दुश्मनों के घेरे में रहते हैं। है |

वहीं दूसरी ओर अपने देश को दुश्मनों से बचाने के लिए उन सभी सैनिकों को सरकार की ओर से कई ऐसी चीजें मिलती हैं, जिससे वे दुश्मनों का सामना बड़ी आसानी से कर सकते हैं. इसलिए दुश्मनों का सामना करने के लिए सेना के जवानों के पास हथियार के रूप में आरडीएक्स RDX होता है, यह सैनिकों के लिए एक महत्वपूर्ण हथियार है। इस हथियार के इस्तेमाल से सेना के जवान दुश्मनों का बहुत आसानी से सामना करते हैं। तो अगर आपको RDX के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है. आज हम बात करेंगे RDX क्या होता है,RDX का फुल फॉर्म क्या होता है, RDX को हिंदी में क्या कहते हैं ,इसके बारे में हम आपको संपूर्ण जानकारी देंगे।

RDX का फुल फॉर्म

RDX का फुल फॉर्म Research Department Explosive और Royal Demolition Explosive होती है. हिंदी में अनुसंधान विभाग विस्फोटक और रॉयल विध्वंस विस्फोटक कहा जाता है.

RDX क्या होता है?

  • आरडीएक्स RDX एक ऐसा हथियार है, जिसे कई नामों से पुकारा जाता है, जैसे कि साइक्लोन, हेक्सोजेन और टी4 आदि, लेकिन आरडीएक्स RDX का रासायनिक नाम साइक्लोट्रिमैथिलीनट्रिनिट्रामाइन है। इसके अलावा रासायनिक सूत्र C3H6N6O6 है। वहीं आरडीएक्स का इस्तेमाल ज्यादातर मिलिट्री या आर्मी करती है, क्योंकि आरडीएक्स RDX का इस्तेमाल सिर्फ ट्रायल के लिए होता है लेकिन कई बार ऐसा होता है कि इसका इस्तेमाल आतंकवादी या किसी अन्य देश के लोग करते हैं। आरडीएक्स RDX का इस्तेमाल सेना तब भी करती है जब लड़ाई होती है। सेना में कार्यरत सैनिकों के लिए आरडीएक्स RDX एक बहुत ही महत्वपूर्ण हथियार है।
  • आरडीएक्स RDX की खोज 1899 में जर्मनी के जॉर्ज फ्रेडरिक हेनिंग ने की थी और आरडीएक्स RDX नाम अंग्रेजों ने गढ़ा था। इसे घर्षण, प्रभाव और तापमान द्वारा ट्रिगर किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल प्रथम विश्व युद्ध में शक्तिशाली विस्फोटक बनाने के लिए किया गया था।
  • आज के समय में RDX का इस्तेमाल ज्यादातर मिलिट्री या आर्मी करती है। आमतौर पर आरडीएक्स RDX का इस्तेमाल सिर्फ ट्रायल के लिए किया जाता है। लेकिन कभी-कभी आरडीएक्स RDX का इस्तेमाल सेना तब भी करती है जब आतंकियों या किसी अन्य देश से लड़ाई होती है। आरडीएक्स RDX सेना के लिए बेहद अहम हथियार का काम करता है।
  • दूसरे विश्व युद्ध में आरडीएक्स RDX का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया गया था और इसके परिणामस्वरूप भयानक तबाही हुई थी। आरडीएक्स RDX एक बहुत ही खतरनाक और घातक बम है और यह बड़ी से बड़ी चीजों को नष्ट करने की क्षमता रखता है। हालांकि इसका इस्तेमाल सेना के अलावा कई खदानों में भी किया जाता है। आरडीएक्स RDX का उपयोग खदानों में पत्थर तोड़ने के लिए भी किया जाता है।

Read More: OCD ka Full Form Kya Hota Hai

आरडीएक्स RDX से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी

  1. आरडीएक्स RDX एक ऐसा हथियार है, जिसमें किसी भी तरह का स्वाद और सुगंध नहीं होता है।
  2. आरडीएक्स RDX टीएनटी से ज्यादा विस्फोटक है।
  3. आरडीएक्स RDX का नाम अंग्रेजों ने रखा था
  4. आरडीएक्स RDX एक सफेद क्रिस्टलीय है, और यह बहुत कठिन है।
  5. आरडीएक्स RDX की खोज जॉर्ज फ्रेडरिक हेनिंग ने 1899 में जर्मनी में की थी।
  6. आरडीएक्स RDX का इस्तेमाल पहली बार दूसरे विश्व युद्ध में विस्फोटक बनाने के लिए किया गया था।

RDX की प्रॉपर्टीज

  • इसका गलनांक melting 5°C होता है।
  • यह कठोर और गंधहीन होता है।
  • यह 213°C पर विघटित हो जाता है।
  • इसका आणविक molecular weight 12 ग्राम/मोल है।
  • यह एक सफेद क्रिस्टलीय ठोस है।
  • यह पानी और अन्य जैविक तरल पदार्थों में अघुलनशील है।

RDX का प्रयोग

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान आरडीएक्स का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता था, अक्सर टीएनटी जैसे टॉरपेक्स, कंपोजिशन बी, साइक्लोटोल और एच 6 के साथ विस्फोटक मिलाते थे। आरडीएक्स का इस्तेमाल पहले प्लास्टिक विस्फोटकों में से एक में किया गया था। “Dumbusters Raidड” में इस्तेमाल किए गए बाउंसिंग बम डेप्थ चार्ज में से प्रत्येक में 6,600 पाउंड (3,000 किग्रा) टारपेक्स था; टॉरपेक्स का इस्तेमाल वालिस द्वारा डिजाइन किए गए टॉलबॉय और ग्रैंड स्लैम बमों में भी किया गया था।

Read More: WIPRO ka Full Form Kya Hota Hai

इतिहास

द्वितीय विश्व युद्ध में दोनों पक्षों द्वारा आरडीएक्स RDX का इस्तेमाल किया गया था। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान अमेरिका ने प्रति माह लगभग 15,000 लम्बे टन (15,000 टन) और जर्मनी में प्रति माह लगभग 7,100 टन (7,000 लम्बे टन) का उत्पादन किया। आरडीएक्स RDX के पास प्रथम विश्व युद्ध में प्रयुक्त टीएनटी TNT की तुलना में अधिक विस्फोटक बल रखने का प्रमुख लाभ था, और इसके निर्माण के लिए अतिरिक्त कच्चे माल की आवश्यकता नहीं थी।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments