Friday, October 7, 2022
HomeTechnologyResistance को हिंदी में क्या कहते हैं ?

Resistance को हिंदी में क्या कहते हैं ?

रेजिस्टेंस Resistance क्या है ,इसका कैसे उपयोग करते हैं, इसको कैसे मापते हैं ,इसके बारे में हम आपको विस्तार पूर्वक बताने वाले हैं तो चलिए आपको इसके बारे में बताते हैं।

रेजिस्टेंस Resistance का हिंदी में क्या मतलब है. रेजिस्टेंस Resistance को हिंदी में प्रतिरोध कहते हैं.

रेजिस्टेंस Resistance क्या है

Resistance  का मतलब Circuit में हो रहे Current Flow में रुकावट प्रतिरोध या Resistance कहलाता है” रजिस्टेंस कहते हैं। रजिस्टेंस का सिंबल ओम Ohm Ω  होता है.

Resistance के प्रकार

Fixed Resistor

Variable Resistor

Fixed Resistor: फिक्स्ड रेसिस्टर फिक्स्ड रेसिस्टर एक प्रकार का लिनियर रजिस्टर होता है. Fixed resistor उस रजिस्टर को कहा जाता है, इनका मान फिक्स होता है. Fixed resistor का मान वेरिएबल रजिस्टर की तरह बदलता नहीं है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि Fixed resistor के मान को इसको बताने में समय निर्धारित किया जाता है.

फिक्स्ड रेसिस्टर के प्रकार

Carbon composition resistor

यह रेसिस्टर resistor काफी आम है इस तरह का resistor को बनाने में काफी आसान रहता है. और इनकी कीमत भी काफी कम होती है। carbon composition resistor कार्बन क्ले से बने होते हैं. जिनको प्लास्टिक के कवर से ढका जाता है। इस resistor की लेड टीन वाले तांबे से बनी होती है। इस तरह के रजिस्टर resistor का इस्तेमाल मुख्य लाभ यह है कि यह काफी आसानी से मिल जाते हैं. यह काफी सस्ते होते हैं। और बहुत टिकाऊ भी होते हैं। carbon composition resistor को इस्तेमाल करने का नुकसान है कि यह तापमान के प्रति काफी संवेदनशील होते हैं. इस तरह के resistor में विद्युत करंट एक कार्बन पार्टिकल से दूसरे कार्बन पार्टिकल की तरफ बढ़ते हैं जिसकी वजह से यह कुछ विद्युत और भी उत्पन्न करते हैं.

Use of carbon composition resistor  

कार्बन कंपोजिशन रेसिस्टर Carbon Composition Resistor का उपयोग हाई फ्रिकवेंसी एप्लीकेशन में किया जाता है. इसका इस्तेमाल हाई वोल्टेज पावर सप्लाई में किया जाता है। इसका उपयोग करंट लिमिटिंग सर्किट में किया जाता है.

Wire wound resistor

वायर वाउंड रेसिस्टर में मैगनीज और कांसटेनटन  की तार को इंसुलेटिंग मटेरियल  के आसपास लपेट दिया जाता है. मैगनीज और कांसटेनटन का तापमान जीरो रहता है।  जिस वजह से इन resistor में तापमान के साथ resistance परिवर्तन ना करें ना के बराबर होता है। इन resistor की कीमत कार्बन कंपोजिशन रेसिस्टर से भी अधिक होती है. इस का उपयोग उस समय किया जाता है जब कार्बन कंपोजिशन रेसिस्टर अपनी सीमाओं की वजह से काम नहीं कर पाते है.

Use of Wire Wound Resistor

इस रेसिस्टर resistor का इस्तेमाल फेस और डिफेंस के कार्यों में किया जाता है. इसको वोल्टेज और करंट को बैलेंस करने के लिए प्रयोग किया जाता है. इस रेसिस्टर resistor का इस्तेमाल कंप्यूटर में भी किया जाता है.

Thick and Thin Film Resistor

Film resistor  के सेरेमिक बेस पर परत चढ़ी होती है. इसकी मोटाई से यह आकलन होता है कि यह रेसिस्टर film resistor थिक फिल्म रेसिस्टर है या थिन फिल्म रेसिस्टर है। थिक फिल्म रेसिस्टर के प्रतिरोधक परत की मोटाई थिन फिल्म रेसिस्टर film resistor के प्रतिरोधक परत की मोटाई से काफी अधिक होती है। फिल्म रेसिस्टर का उत्पादन एक खास पेस्ट के जरिए किया जाता है कि ग्लास और धातु ऑक्साइड का सबस्ट्रेट में मिश्रण होता है। थिक फिल्म रेसिस्टर film resistor तीन प्रकार के होते हैं। फ्युजिबल रेसिस्ट, सेरमेट फिल्म रेसिस्टर और मेटल ऑक्साइड फिल्म रेसिस्टर Fusible Resistor, Cermet Film Resistor and Metal Oxide Film Resistor।

Variable Resistor

वेरिएबल रेसिस्टर Variable resistor एक ऐसा उपकरण होता है जिसके रजिस्टेंस resistance को इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में अपनी जरूरत के अनुसार कम ज्यादा कर सकते हैं. इसे दो टर्मिनलों के साथ 3 टर्मिनल के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

Read More: OLED ka Full Form Kya Hota Hai

Variable Resistor Types

Potentiometer

जब कभी भी हम करंट और पोटेंशियल current and potential अंतर का आकलन में एमीटर या वोल्टमीटर ammeter or a voltmeter से करते हैं तो उस समय हमारे पास शुद्ध मान नहीं आ पाता ,क्योंकि जब हम एमीटर या वोल्टमीटर को सर्किट में जोड़ते हैं तब वह मूल सर्किट को डिस्टर्ब कर देता है.

 लेकिन पोटेंशियोमीटर potentiometer एक ऐसा उपकरण होता है जिससे हम करंट और पोटेंशियल डिफरेंस का आकलन कर सकते हैं बिल्कुल सही ढंग से पोटेंशियोमीटर potentiometer का ऐसा रेसिस्टर resistor है. जो किसी सर्किट में वोल्टेज को काबू करने के लिए काम में लिया जाता है.पोटेंशियोमीटर potentiometer 3 टर्मिनल से से मिलकर बना होता है. जिसमें दो टर्मिनल निश्चित होते हैं और एक टर्मिनल परिवर्तनशील है। पोटेंशियोमीटर के दो स्थिर टर्मिनल रजिस्टर सामग्री के दोनों सिरों से जुड़े होते हैं। जिसे ट्रैक कहा जाता है और तीसरा टर्मिनल स्लाइडर द्वारा जुड़ा होता है। जिसे वाइपर कहते हैं, जैसे ही वाइपर प्रतिरोध की राह पर चलता है, उसी समय पोटेंशियोमीटर के रजिस्टर में बदलाव आने लगते हैं।

Use of potentiometer

पोटेंशियोमीटर Potentiometers का इस्तेमाल इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में वोल्टेज डिवाइडर के तौर पर किया जाता है। पोटेंशियोमीटर Potentiometers का प्रयोग रेडियो और टेलीविजन में आवाज को कम ज्यादा करने के लिए भी प्रयोग में किया लिया जाता है. इसका उपयोग चिकित्सा उपकरणों में भी किया जाता है।

Rheostat

रिओस्टेट Rheostat सब ग्रीक शब्द रियोस और स्टैटिस से बना है इसका मतलब होता है करंट को काबू करने वाला उपकरण रिओस्टेट Rheostat का निर्माण पोटेंशियोमीटर की तरह ही होता है। पोटेंशियोमीटर मीटर की तरह रिओस्टेट Rheostat में भी तीन टर्मिनल होते हैं। हालांकि इसमें ऑपरेशन करने के लिए केवल दो टर्मिनल का उपयोग किया जाता है.

Use of rheostat

रिओस्टेट उन उपकरणों में इस्तेमाल किया जाता है जहां हाई वोल्टेज और करंट की जरूरत हो प्रकाश की तेज गति को बदलने के लिए रियोस्टेट का उपयोग डिम रोशनी में किया जाता है।

Resistance को कैसे मापते है?

किसी भी रजिस्टेंस resistance को मापने के लिए ओम के नियम का प्रयोग किया जाता है। या फिर कलर कोड सबसे बढ़िया ऑप्शन है मापने के लिए इसके अलावा आप मल्टीमीटर multimeter का प्रयोग करके भी रजिस्टेंस resistance को माप सकते हैं.

अगर आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हैं, और अगर आपका कोई सुझाव है तो आप हमें कमेंट करके भी बता सकते हैं

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments