SAARC का फुल फॉर्म क्या होता है ?

0
677
SAARC ka Full Form Kya Hota Hai

दुनिया में ज्यादातर लोगों के पास देश के बारे में ज्यादा जानकारी होती है, लेकिन उन्हें देश के समूह के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती है। इसी तरह आप सार्क के समूह के बारे में ज्यादा नहीं जानते होंगे, जिसे सार्क के नाम से जाना जाता है। सार्क 8 देशों का समूह है, जिसमें दक्षिण एशिया के 8 देश, भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान, मालदीव और अफगानिस्तान शामिल हैं। इसका मुख्यालय काठमांडू, नेपाल में स्थित है। यह एक ऐसा देश है जहां हर साल सभी देशों के प्रतिनिधिमंडल मिलते हैं और अपने सदस्य देशों के विकास पर चर्चा करते हैं। आज हम बात करेंगे SAARC क्या होता है, SAARC का फुल फॉर्म क्या होता है,SAARC को हिंदी में क्या कहते हैं ,इसके बारे में हम आपको संपूर्ण जानकारी देंगे।

SAARC का फुल फॉर्म

SAARC का फुल फॉर्म South Asian Association for Regional Cooperation होती है. इसको हिंदी में क्षेत्रीय सहयोग के लिए दक्षिण एशियाई संघ कहा जाता है. सार्क को दक्षिण एशियाई सहयोग संगठन कहा जाता है। इस सार्क की स्थापना दक्षिण एशिया के सात देशों ने की थी, जिसमें भारत के साथ-साथ पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमार, श्रीलंका और मालदीव भी शामिल हैं। सार्क की स्थापना 1985 में हुई थी। इसका संगठन मुख्य रूप से दक्षिण एशिया के 7 पड़ोसी देशों के क्षेत्रीय सहयोग के उद्देश्य से है।

SAARC क्या होता है?

सार्क दक्षिण एशिया में स्थित आठ देशों का एक आर्थिक और भू-राजनीतिक संगठन है और निम्नलिखित देश भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान, मालदीव, अफगानिस्तान आदि हैं। सार्क का मुख्यालय काठमांडू, नेपाल में स्थित है।

यह संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन के बाद जीडीपी (पीपीपी) के मामले में दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और नाममात्र जीडीपी के मामले में 8वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। सार्क बनाने के पीछे मुख्य उद्देश्य मानव संसाधन विकास, जनसंख्या और स्वास्थ्य संबंधी गतिविधियाँ, ग्रामीण और कृषि विकास, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और दूरसंचार, परिवहन आदि हैं।

Read More: CMOS ki Full Form Kya Hai

1970 के दशक के अंत में सात दक्षिण एशियाई देशों में भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान, मालदीव और अफगानिस्तान शामिल थे, जो दक्षिण एशिया के लोगों को व्यापार पर एक साथ काम करने के लिए एक मंच प्रदान करते थे। समूह के गठन पर सहमति व्यक्त की। दोस्ती, विश्वास और समझ। यह विचार पहली बार 2 मई 1980 को जिया उर रहमान द्वारा उठाया गया था और पहला शिखर सम्मेलन 8 दिसंबर 1985 को ढाका में आयोजित किया गया था।

SAARC के गठन के पीछे का मुख्य उद्देश्य

  • SAARC का मुख्य उद्देश्य परिवहन के साधन उपलब्ध कराना है
  • SAARC का मुख्य उद्देश्य मानव संसाधन विकास को बढ़ावा देना है
  • SAARC का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण और कृषि विकास को बढ़ावा देना है
  • SAARC का मुख्य उद्देश्य विज्ञान, प्रौद्योगिकी और दूरसंचार को बढ़ावा देना है
  • SAARC संगठन का उद्देश्य आपसी सहयोग के माध्यम से दक्षिण एशिया में शांति और प्रगति हासिल करना है।

सार्क के शिखर सम्मेलन का इतिहास

  1. 1985-(ढाका) बांग्लादेश
  2. 1986 -(बेंगलूरू) भारत
  3. 1987 -(काठमांडू) नेपाल
  4. 1988 -(इस्लामाबाद) पाकिस्तान
  5. 1990 -(माले) मालदीव
  6. 1991-(कोलम्बो) श्रीलंका
  7. 1993 -(ढाका) बांग्लादेश
  8. 1995- (नई दिल्ली) भारत
  9. 1997 -(माले) मालदीव
  10. 1998 -(कोलम्बो) श्रीलंका
  11. 2002 -(काठमांडू) नेपाल
  12. 2004 -(इस्लामाबाद) पाकिस्तान
  13. 2005 -(ढाका) बांग्लादेश
  14. 2007 -(नई दिल्ली) भारत
  15. 2008 -(कोलम्बो) श्रीलंका
  16. 2010 -(थिम्फू) भूटान
  17. 2011 -(अडडू) मालदीव
  18. 2014 -(काठमांडू) नेपाल
  19. 2016 -(इस्लामाबाद) पाकिस्तान
  20. 2017 -(इंदोर) भारत

सार्क का सांगठनिक ढांचा

3 सार्क राष्ट्राध्यक्षों के शिखर सम्मेलन का प्रावधान है।

सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों की परिषद के प्रावधान को 4 में शामिल किया गया है, जिनकी साल में दो बार बैठक बहुत महत्वपूर्ण होती है।

5 में एक स्थायी समिति का प्रावधान शामिल है, जिसमें सदस्य देशों के विदेश सचिव शामिल हैं। इसके तहत साल में एक बार मिलना अनिवार्य है। यह सहयोग के क्षेत्रों की पहचान करने और इसकी प्रगति की निगरानी करने के लिए काम करता है।

Read More: MS Word ko Hindi me Kya Kehte Hai

6 में तकनीकी समितियों का प्रावधान है, जो क्षेत्रीय सहयोग और समन्वय के नए विषयों पर कार्य करती हैं।

कार्यकारी समिति का प्रावधान 7 में शामिल है।

8 में सार्क सचिवालय का प्रावधान शामिल है, जिसे 1987 में स्थापित किया गया था और इसका मुख्यालय काठमांडू में स्थित है। इसमें एक महासचिव भी होता है, जो दो साल के कार्यकाल के लिए कार्य करता है। सचिवालय के साथ-साथ विभिन्न सदस्य देशों में सहयोग के लिए 12 क्षेत्रीय केंद्र स्थापित किए गए हैं।

9 और 10 की गणना सार्क/सार्क वित्तीय संस्थानों और अंशदानों के प्रावधान द्वारा की जाती है।

सार्क के उपदेशों

सार्क की शिक्षाओं के बारे में सार्क लोगों के कल्याण के लिए काम करता है कल्याण को बढ़ावा देने के लिए जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए यानी लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए। सार्क आर्थिक विकास के लिए काम करता है और सार्क आर्थिक विकास के लिए कैसे काम करता है आर्थिक विकास उन लोगों के लिए है जो आपस में सभी देश हैं, वे व्यापार में सहयोग करते हैं, वे उत्पादन में सहयोग करते हैं, तो क्या होता है आर्थिक विकास और दूसरा सामाजिक विकास, सामाजिक किस जाति में शिक्षा आती है, गरीबी आती है, आबादी आती है, ये सब चीजें मिलकर काम करती हैं।

मतलब यह कि जो देश इसके सदस्य देश हैं उन्हें किस तरह से शिक्षा पर काम करना चाहिए ताकि उसके सभी सदस्य देशों को उन सभी देशों में अच्छी शिक्षा मिल सके। गरीबी कैसे कम करें, जनसंख्या को कैसे नियंत्रित करें और जनसंख्या की जरूरतों को कैसे पूरा करें। यह इन सभी चीजों पर एक साथ इन सभी चीजों के उद्देश्य से काम करता है क्योंकि कोई भी संगठन किसी उद्देश्य के लिए बनाया जाता है तो ये 7 उद्देश्य हैं जिन पर यह काम करता है।

Read More: IRCTC ka Kya Matlab Hai

और अब तक हमने आर्थिक विकास और सामाजिक विकास के बारे में बात की है। अब हम सांस्कृतिक विकास की बात करेंगे, तो खेल, खेल, नृत्य और इसमें होने वाले उत्सव समारोह सभी इसी में आते हैं। सरकार इन पर काम करती है ताकि इन चीजों के खेल के नृत्य को विकसित किया जा सके। लोगों को इसमें भाग लेना चाहिए और खुद को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाना चाहिए और देश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाना चाहिए। सार्क इन सबके लिए काम करता है।

और इन सार्क सदस्य देशों का उद्देश्य यह है कि वे एक-दूसरे की समस्याओं को समझें। एक दूसरे का समर्थन करें और एक साथ विकास करें।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here