Thursday, August 11, 2022
Homefull formsD.EL.ED का फुल फॉर्म क्या होता है ?

D.EL.ED का फुल फॉर्म क्या होता है ?

देशभर में कई ऐसे लोग हैं जो टीचर बनने के लिए तरह-तरह के कोर्स करते हैं, जिसके बाद उन्हें टीचर की नौकरी मिल जाती है। जानकारी देते हुए आपको बता दें कि शिक्षक बनने के लिए हमें कई तरह के कोर्स करने पड़ते हैं, जिसके लिए हमें काफी मेहनत करनी पड़ती है। तभी हम अपने इस मुकाम तक पहुंचने में सफल हो सकते हैं। इन पाठ्यक्रमों में शिक्षक बनने में देरी (d.el.ed) का एक कोर्स भी होता है, जिसे करने के बाद हम शिक्षक की नौकरी पाने में सफल हो सकते हैं, इसे BTC के नाम से भी जाना जाता था। आज हम बात करेंगे D.EL.ED क्या होता है,D.EL.ED का फुल फॉर्म क्या होता है, D.EL.ED को हिंदी में क्या कहते हैं ,इसके बारे में हम आपको संपूर्ण जानकारी देंगे।

डिलेड (D.EL.ED) OR BTC का फुल फॉर्म

D.EL.ED एक प्रकार का डिप्लोमा कोर्स है जो सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त सरकारी या निजी कॉलेजों के माध्यम से संचालित किया जाता है। D.EL.ED कोर्स दो साल के कोर्स पर आधारित है, जिसके लिए उम्मीदवार को कम से कम ग्रेजुएशन पास होना चाहिए। D.EL.ED में प्रवेश लेने के लिए उम्मीदवार को सरकार द्वारा वैकेंसी आने का इंतजार करना पड़ता है। वैकेंसी आते ही उम्मीदवार D.EL.ED कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं। D.EL.ED में प्रवेश लेना एक उम्मीदवार के प्राथमिक विद्यालय में सरकारी शिक्षक बनने की राह पर पहला कदम है।

D.EL.ED कौन कर सकता है?

D.EL.ED पाठ्यक्रम दो वर्षीय पाठ्यक्रम पर आधारित है। D.EL.ED कोर्स में प्रवेश पाने के लिए उम्मीदवार को 10+2 के बाद स्नातक होना आवश्यक है यहाँ आप किसी भी पक्ष के छात्र रहे हैं, मेरा मतलब है कि आप विज्ञान या कला या अन्य के छात्र रहे हैं। इन सभी परिस्थितियों में आप डी.ई.एल.एड पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने के लिए पूर्णतः पात्र होंगे।

Read More: MSME ka Full Form Kya Hota Hai

D.EL.ED करने के बाद क्या स्कोप है?

D.EL.ED कोर्स करने के बाद आप प्राइमरी स्कूल में सरकारी नौकरी पाने के लिए आगे बढ़ सकते हैं।

इस तरह से अभ्यर्थी ले सकते हैं प्रवेश

  • राज्य सरकार द्वारा हर साल शिक्षक पदों के लिए आवेदन जारी किए जाते हैं। आपको आवेदन प्रक्रिया शुरू होने के बाद निर्धारित तिथि के भीतर आवेदन करना चाहिए।
  • आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद आप उसका प्रिंट आउट भी ले सकते हैं।
  • आवेदन के कुछ समय बाद बोर्ड द्वारा मेरिट जारी की जाती है।
  • इसके बाद अपनी योग्यता के अनुसार काउंसलिंग में भाग लें।
  • काउंसलिंग प्रक्रिया समाप्त होने के एक या दो दिन बाद कॉलेज आवंटन होता है। आप अलॉटमेंट लेटर का प्रिंट आउट ले लें और जरूरी डॉक्यूमेंट्स के साथ अलॉट किए गए कॉलेज में फीस जमा करें और फिर एडमिशन लें।

डी एल एड (D.EL.ED) के बाद क्या करे

इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप शिक्षक पात्रता परीक्षा में शामिल हो सकते हैं। राज्य सरकार और केंद्र सरकार अलग-अलग इस परीक्षा का आयोजन करती है। राज्य सरकार द्वारा आयोजित परीक्षा को राज्य शिक्षक पात्रता परीक्षा कहा जाता है और केंद्र सरकार द्वारा आयोजित परीक्षा को केंद्र शिक्षक पात्रता परीक्षा कहा जाता है।

Read More: NCR ka Full Form Kya Hota Hai

डी एल एड के लिए योग्यता और कॉलेज फीस

किसी भी परीक्षा में बैठने के लिए पात्रता निर्धारित है। डीईएलडी में कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए पात्रता की बात करें तो उम्मीदवार की 12वीं की पढ़ाई पूरी होनी चाहिए। 12वीं साइंस, आर्ट्स या कॉमर्स किसी भी स्ट्रीम से किया जाता है। इसके साथ ही उम्मीदवार के लिए कक्षा 12वीं में न्यूनतम 50% अंक होना अनिवार्य है। अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति और विकलांग छात्रों को अंकों में 5% की छूट मिलती है।

D.El.Ed कोर्स की फीस कितनी होगी, यह आपके क्षेत्र और कॉलेज/विश्वविद्यालय पर निर्भर करता है। DELD कॉलेज की फीस सालाना 5 हजार से 2 लाख के बीच हो सकती है। उदाहरण के लिए, वर्तमान में जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में, यह शुल्क लगभग 7000 रुपये प्रति वर्ष है, जबकि एमिटी विश्वविद्यालय, नोएडा में पाठ्यक्रम शुल्क 60000 प्रति वर्ष है।

DELD कैसे करे?

  • भारत में डीएल एड पाठ्यक्रम में नामांकन की प्रक्रिया अलग-अलग राज्यों में भिन्न हो सकती है। देश के सभी सरकारी कॉलेजों में एडमिशन लेने के लिए आपको एक एंट्रेंस एग्जाम देना होता है। कुछ निजी कॉलेजों में बिना कोई प्रवेश परीक्षा दिए सीधे आपके 12वीं के अंकों के आधार पर ही प्रवेश मिलता है।
  • असम, बिहार, उड़ीसा और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में D.EL.D में प्रवेश लेने के लिए प्रवेश परीक्षा देना अनिवार्य है। उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल जैसे कुछ राज्यों में, D.El.Ed के लिए कोई प्रवेश परीक्षा नहीं है।
  • अगर आप DELD करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपकी 12वीं पूरी होनी चाहिए। आप कोशिश करें कि 12वीं में ज्यादा से ज्यादा अंक मिले।
  • उसके बाद आपको इस कोर्स के लिए होने वाली प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन करना होगा। इस परीक्षा में प्राप्त अंक ही यह निर्धारित करेंगे कि आपको किस अच्छे कॉलेज में प्रवेश मिलेगा। यदि आपके अंक अच्छे हैं तो आप सरकारी कॉलेज में प्रवेश ले सकते हैं जिसमें फीस बहुत कम है।
  • प्रवेश परीक्षा में आपको वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न मिलेंगे जो 12वीं तक आपके अध्ययन के विषयों पर आधारित होंगे। इस परीक्षा में पूछे गए प्रश्न 3 खंडों में दिए जाएंगे। प्रत्येक सेक्शन के लिए अलग कट ऑफ लिस्ट जारी की जाएगी। जिन उम्मीदवारों का नाम इस मेरिट लिस्ट में होगा, उनका चयन विभिन्न कॉलेजों में प्रवेश के लिए किया जाएगा।

Read More: NAAC ka Full Form Kya Hota Hai

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments