Friday, October 7, 2022
Homefull formsHIV का फुल फॉर्म क्या होता है?

HIV का फुल फॉर्म क्या होता है?

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि दुनिया में ऐसे बहुत सारे रोग होते हैं जिनका इलाज नामुमकिन होता है लेकिन उसको रोकने के लिए बहुत सारी दवाई बनाई गई हैं जिससे कि उसकी रोकथाम की जा सके। एचआईवी एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है, इसका कोई इलाज नहीं है। इस प्रकार का वायरस मानव प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है और इसे इन्फ्लूएंजा, खांसी, तपेदिक जैसी बीमारियों के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है। एचआईवी सफेद रक्त कोशिकाओं को नष्ट करना शुरू कर देता है। 

यदि इन श्वेत कोशिकाओं की एक बड़ी संख्या नष्ट हो जाती है, तो शरीर संक्रमण से लड़ने में निष्क्रिय हो जाता है। जैसे-जैसे संक्रमण तेजी से बढ़ता है, यह एड्स का रूप धारण कर लेता है। आज हम बात करने वाले हैं ऐसे हीरो के बारे में जिसे हम एचआईवी के नाम से जानते हैं। एचआईवी का फुल फॉर्म क्या होता है. HIV को हिंदी में क्या कहते हैं. HIV कैसे फैलता है इसके बारे में मां को विस्तार पूर्वक जानकारी देंगे।

HIV(एचआईवी) का फुल फॉर्म 

एचआईवी HIV का फुल फॉर्म “”Human Immunodeficiency Virus”” है। हिंदी में “ह्यूमन इम्यूनोडेफिशियेंसी वायरस” नाम से जाना जाता है। यह सबसे खतरनाक वायरस में से एक है जो “एक्वायर्ड इम्यूनोडेफिशिएंसी सिंड्रोम (एड्स)” का मुख्य कारण है जिसे एचआईवी HIV संक्रमण का प्राथमिक चरण माना जाता है। एड्स पहली बार संयुक्त राज्य अमेरिका में 1981 में देखा गया था।

आपको बता दें कि एचआईवी HIV एक वायरस जैसा रूप है जबकि एड्स एचआईवी HIV संक्रमण के बाद एक सिंड्रोम के रूप में प्रकट होता है। यदि कोई व्यक्ति एचआईवी HIV से संक्रमित है, तो यह बिल्कुल भी आवश्यक नहीं है कि उसे एड्स है।

क्योंकि एचआईवी HIV से संक्रमित व्यक्ति उचित दवा का पालन करके सामान्य जीवन जी सकता है, लेकिन एड्स से पीड़ित प्रत्येक व्यक्ति एचआईवी से संक्रमित होता है, क्योंकि एड्स एचआईवी HIV के कारण ही होता है।

एचआईवी(HIV) किस कारण से होता है

आज के दौर में एड्स AIDS को एक गंभीर समस्या माना जाता है। इसका सबसे बड़ा कारण लोगों में जागरुकता की कमी है, जिसके कारण अभी भी एचआईवी के कई मामले सामने आते रहते हैं। एचआईवी HIV वायरस होने के 8 से 10 साल बाद आपके अंदर एड्स के लक्षण दिखने लगते हैं.

Read MoreNAAC ka Full Form Kya Hota Hai

रक्ताधान के दौरान एचआईवी HIV प्रभावित रक्त का प्रयोग

एचआईवी HIV वायरस मां से बच्चे में फैल सकता है

एचआईवी HIV पॉजिटिव व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन संबंध

नाई या टैटू की दुकान पर संक्रमित चीजों का प्रयोग

एक डॉक्टर द्वारा एक डिस्पोजेबल सिरिंज का उपयोग

एचआईवी के कुछ प्रारंभिक लक्षण 

जब कोई व्यक्ति इस वायरस से संक्रमित infected हो जाता है, उसे लंबे समय तक पता नहीं चलता है, तो धीरे-धीरे उस व्यक्ति को सर्दी, जुकाम या वायरल बुखार हो जाता है, इससे कोई भी यह अनुमान नहीं लगा सकता है कि वह व्यक्ति एचआईवी HIV से संक्रमित है क्योंकि यह एक सामान्य बीमारी की तरह है। 

क्योंकि सर्दी, जुकाम या बुखार सभी को आता रहता है लेकिन इस रोग से संक्रमित व्यक्ति का शरीर धीरे-धीरे फैलने लगता है जब यह संक्रमण पूरे शरीर में फैल जाता है तो इस रोग के लक्षण दिखाई देते हैं। लेकिन इसमें बहुत समय लगता है, कभी-कभी इसमें 10 साल या उससे भी अधिक समय लग जाता है।

इस रोग से संक्रमित होने के बाद व्यक्ति को बार-बार जुकाम होने लगता है।

जिस व्यक्ति को यह होता है उसे लगातार खांसी आने लगती है।

सिरदर्द शुरू हो जाता है।

थकान महसूस कर रहा हूँ।

शरीर का वजन बहुत कम हो जाता है, यानी शरीर के वजन में गिरावट आ जाती है।

खाना पसंद नहीं है। इस रोग के मुख्य लक्षण शरीर पर निशानों का बनना है।

उपचार

एड्स AIDS के उपचार में एंटी-रेट्रोवायरल थेरेपी दवाओं का उपयोग किया जाता है, जिसका मुख्य उद्देश्य शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना, एचआईवी के संक्रमण को कम करना और इससे संक्रमित लोगों को ठीक करना है, इसे रोकने के लिए डॉक्टर नई दवाओं की सलाह देते हैं। 

बचाव कैसे करें

एड्स से बचाव के लिए सामान्य व्यक्ति को उससे संक्रमित व्यक्ति के वीर्य, योनि स्राव तथा रक्त संबंध में आने से बचना चाहिए तथा इसके अलावा और भी बहुत सी प्रकार की सावधानियां बरतनी चाहिए जो निम्नलिखित प्रकार से है-

इंजेक्शन लगवाते समय हमेशा नयी इंजेक्शन का प्रयोग करवाना चाहिए .

एक से अधिक लोगों के साथ योन संबंध नहीं बनाना चाहिए। 

Read More: NCR ka Full Form Kya Hota Hai

संक्रमित साथी के साथ योन संबंध नहीं बनाना चाहिए और यदि संबंध बना रहे हो तो कंडोम का प्रयोग करना चाहिए। 

खून को जांच करा कर ही चढ़वाना चाहिए क्योंकि हो सकता हैं खून को देने वाला व्यक्ति एचआईवी संक्रमित रहा हो। 

भारत में एड्स बीमारी के फैलने की सबसेे बड़ी वजह अशिक्षा है क्योंकि अशिक्षित व्यक्ति बिना देखे पुराने इंजेक्शन का प्रयोग करवा लेतेे हैं तथा खून को चढ़ाते समय यह भी नहीं चेक करवाते की खून एचआईवी संक्रमित हैं या नहीं है तथा इन सबके अलावा सबसे बड़ी वजह योनि संबंध है यहां पर अक्सर लोग यौन संबंध बनाते समय कंडोम का प्रयोग नहीं करते हैं तथा यदि संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संबंध बना लेते हैं जिससे उस व्यक्ति को भी यह रोग हो जाता है .

एचआईवी का जाँच

इस रोग की उपस्थिति का परीक्षण करने का कोई उचित तरीका नहीं है, क्योंकि एचआईवी बहुत छोटा है और इसे रक्त से अलग नहीं किया जा सकता है।

आपको बता दें कि इस बीमारी के निदान के लिए दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग प्रक्रियाओं का इस्तेमाल किया जाता है। जिसमें एलिसा टेस्ट, वेस्टर्न बोल्ट टेस्ट, लार टेस्ट और वायरल लोड टेस्ट शामिल हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments