Friday, October 7, 2022
Homefull formsIDE का फुल फॉर्म क्या होता है ?

IDE का फुल फॉर्म क्या होता है ?

आज हम बात करेंगे IDE क्या होता है, IDE का फुल फॉर्म क्या होता है, IDE को हिंदी में क्या कहते हैं ,इसके बारे में हम आपको संपूर्ण जानकारी देंगे।

IDE का फुल फॉर्म

IDE का फुल फॉर्म Integrated Development Environment होती है. इसको हिंदी मे समन्वित विकास पर्यावरण कहा जाता है.

IDE क्या होता है?

यह एक प्रोग्रामिंग वातावरण environment है. जिसमें एक ही पैकेज में कई चीजें होती हैं जैसे कोड एडिटर, कंपाइलर, डीबगर और जो आप देखते हैं वह आपको मिलता है। यह वास्तव में एक सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन है जो सॉफ्टवेयर विकास के लिए कंप्यूटर प्रोग्रामर को व्यापक सुविधाएं प्रदान करता है।

यह उन सभी बुनियादी उपकरणों को जोड़ती है जिन्हें डेवलपर्स को सॉफ़्टवेयर लिखने या परीक्षण करने की आवश्यकता होती है। इस प्रकार का वातावरण एक एप्लिकेशन डेवलपर को एक ही स्थान पर संकलित डिबगिंग और निष्पादन करते समय कोड लिखने की अनुमति देता है। यह एक स्टैंडअलोन एप्लिकेशन standalone application या एक या अधिक संगत एप्लिकेशन compatible applications का हिस्सा हो सकता है।

उदाहरण के लिए – NET applications को विकसित करने के लिए आईडीई माइक्रोसॉफ्ट विजुअल स्टूडियो और जावा अनुप्रयोगों के विकास के लिए आईडीई है।

Read More: RTI ka Full Form Kya Hota Hai

IDE Components

IDE के कई components होते हैं जैसे –

  • Project Window
  • Tool Bar
  • Menu Bar
  • Tool Box
  • Form Designer
  • Property Window
  • Form Layout Window
  • Project Window

विंडो टाइटल को प्रोजेक्ट एक्सप्लोरर भी कहा जाता है। यह प्रोजेक्ट फ़ाइल को नियंत्रित करता है। प्रोजेक्ट एक्सप्लोरर टूलबार पर तीन बटन जैसे व्यू कोड, व्यू ऑब्जेक्ट और टॉगल फोल्डर को नियंत्रित करता है।

Read More: UNESCO ka Full Form Kya Hota Hai

जब व्यू कोड बटन दबाया जाता है, तो उसमें विजुअल बेसिक कोड लिखने के लिए एक विंडो प्रदर्शित होती है। इसके बाद जब व्यू ऑब्जेक्ट बटन दबाया जाता है तो वहां एक फॉर्म प्रदर्शित होता है।

Tool bar

टूल बार प्रोग्रामिंग कमांड के लिए त्वरित पहुँच प्रदान करता है। इसके जरिए आप ऐसे कमांड्स को जल्दी एक्सेस कर सकते हैं जो ज्यादातर इस्तेमाल होते हैं। टूल बार में किसी भी बटन पर क्लिक करके आप उससे संबंधित कार्य कर सकते हैं। टूल बार की सेटिंग को व्यू मेन्यू से बदला जा सकता है।

Menu bar

मेनू बार का काम एप्लिकेशन बनाने के लिए आवश्यक कमांड प्रदर्शित करना है। यह एक क्षैतिज पट्टी है जो स्क्रीन के शीर्ष पर दिखाई देती है और मेनू को नियंत्रित करती है जैसे –

  1. File – यह परियोजना को खोलने, बंद करने, छपाई आदि के विकल्प को नियंत्रित करता है।
  2. Edit – यह कट, पेस्ट, अनडू, डिलीट, फाइंड आदि के विकल्प को नियंत्रित करता है।
  3. View- यह आईडीई विंडोज और टूल बार प्रदर्शित करने का विकल्प प्रदर्शित करता है।
  4. Project – यह प्रोजेक्ट में विशेषताएँ जोड़ने का विकल्प प्रदर्शित करता है।
  5. Format- यह प्रपत्र के नियंत्रणों को संरेखित और लॉक करने के विकल्प को नियंत्रित करता है।
  6. Debug – यह डिबगिंग विकल्पों को नियंत्रित करता है।
  7. Run – यह प्रोग्राम को निष्पादित करने, रोकने के विकल्प को नियंत्रित करता है।
  8. Diagram – यह डेटाबेस के डिज़ाइन को संपादित करने और देखने के विकल्प को नियंत्रित करता है।
  9. Tools- यह आईडीई टूल्स के विकल्प को नियंत्रित करता है।
  10. Add-ins – यह ऐड इन्स का उपयोग करके इंस्टॉल को हटाने के विकल्प को नियंत्रित करता है।
  11. Windows – यह विंडोज़ की व्यवस्था और प्रदर्शन विकल्पों को नियंत्रित करता है।
  12. Help-यह सहायता के विकल्प को नियंत्रित करता है।

Tool Box

टूल बॉक्स में कई अलग-अलग आइकन होते हैं। यह नियंत्रणों के लिए चयन मेनू है, इन नियंत्रणों का उपयोग प्रपत्रों के उपयोग को अनुकूलित करने के लिए किया जाता है।

Read More: AMUL ka Full Form Kya Hota Hai

Form objects

सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन के लिए फॉर्म ऑब्जेक्ट बिल्डिंग ब्लॉक्स की तरह हैं। यह एक विंडो है जिसमें उपयोगकर्ता शुरुआत में एप्लिकेशन के साथ इंटरैक्ट करता है।

Properties window

Properties window नियंत्रण के लिए गुण प्रदर्शित properties करती है। इसमें कुछ गुण होते हैं जैसे आकार की स्थिति आदि।

Form Layout window

Form Layout window से पता चलता है कि form मॉनिटर की स्क्रीन पर कहाँ प्रदर्शित होगा।

आईपी क्या होता है

IP का फुल फॉर्म Internet Protocol होती है. हिंदी मे इंटरनेट प्रोटोकॉल कहा जाता है. हमारे जितने भी डिवाइस में इंटरनेट चलता है, उन सभी डिवाइस की अलग-अलग आईडी होती है, जिसे हम आईपी एड्रेस कहते हैं। जब हम अपने मोबाइल या कंप्यूटर से इंटरनेट पर कोई भी जानकारी सर्च करते हैं तो इस आईपी एड्रेस से राउटर को पता होता है कि डेटा कहां भेजना है और फिर जानकारी इकट्ठा करके इंटरनेट प्रोटोकॉल एड्रेस पर भेज देता है जहां से उसे कमांड दी जाती है।

Format of IP Address

यह 32 बिट बाइनरी डिजिट से बना है जो कि 100110101010100.100110101 जैसा कुछ है जिसे याद रखना मुश्किल हो जाता है। इसलिए इसे चार भागों में विभाजित करके दशमलव लगाकर अलग किया जाता है और प्रत्येक भाग में 0 से 255 अंकों की संख्या हो सकती है। जैसे – 192.186.112.39

32 बिट होने के कारण यह सीमित हो गया है, इसमें केवल 4294967296 IP पता ही आ सकता है जो समाप्त होने के कगार पर है। तो अब एक नए आईपी एड्रेस सिस्टम (आईपीवी 4) की जरूरत है जिसे विकसित किया गया है जो 128 बिट का है जिसमें अनलिमिटेड आईपी एड्रेस बनाया जा सकता है और यह इस तरह दिखता है – 2102:db4:0:1134:0: 367:1:2

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments