Friday, October 7, 2022
Homefull formsKYC का फुल फॉर्म क्या होता है?

KYC का फुल फॉर्म क्या होता है?

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आजकल टेक्नोलॉजी का ज्यादा इस्तेमाल होने लगा है सारे कम टेक्नोलॉजी के जरिए मिनट में काम जाता है वैसे ही जैसे कि आजकल बिना केवाईसी KYC की कोई भी काम नहीं होता आजकल केवाईसी KYC का होना बहुत ही जरूरी है जाए आपको पैसे निकालने जाए बैंक से या कोई भी काम करें आपके लिए केवाईसी KYC करवाना बहुत ही अनिवार्य है.इस समय कोई भी काम करना चाहिए जैसे बैंक में खाता खोलना, कर्ज लेना, वॉलेट खोलना, लॉकर लेना, क्रेडिट कार्ड लेना, म्यूचुअल फंड खरीदना, पोस्ट लेना कार्यालय और बीमा आदि केवाईसी फॉर्म भरने के लिए।

जरूरी है अब अगर आप कोई नया सीन लेते हैं तो उसमें भी आपको केवाईसी करना होता है। कोई भी वॉलेट बनाओ जैसे पेटीएम वायलेट हो गया है, आप फोनपे बन गए हैं, Google पे बन गया है, इन सभी में भी आपको केवाईसी KYC देना होगा जब तक आप अपना दस्तावेज़ नहीं देते हैं, तब तक आपका वायलेट सक्रिय नहीं होता है। आज हम आपको बताएंगे केवाईसी KYC क्या होता है, केवाईसी KYC का क्या फुल फॉर्म होता है। केवाईसी KYC को हिंदी में क्या कहते हैं। केवाईसी KYC क्यों जरूरत होती है इसके बारे में हम आपको विस्तार पूर्वक बताएंगे।

केवाईसी का फुल फॉर्म

KYC का फुल फॉर्म Know Your Customer है, हिंदी में इसका मतलब होता है ‘अपने ग्राहक को जानो’। यह एक प्रकार का फॉर्म होता है, इसे भरना जरूरी होता है, इसके साथ ग्राहक के कुछ दस्तावेज संलग्न होते हैं, जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर कार्ड, पासपोर्ट आदि। भारतीय रिजर्व बैंक ने सभी बैंकों को सभी को सीमित करने का निर्देश दिया है। ग्राहक द्वारा केवाईसी KYC जमा करने तक ग्राहक सेवाएं।

केवाईसी क्या है

केवाईसी KYC आरबीआई द्वारा शुरू किया गया एक प्रकार का बैंक ग्राहक पहचान है। इसके जरिए बैंक अपने ग्राहकों की पहचान बड़ी आसानी से कन्फर्म कर देता है। प्रत्येक खाताधारक को केवाईसी KYC का फॉर्म भरकर बैंक में जमा करना होता है। आरबीआई की गाइडलाइंस के मुताबिक हर बैंक के ग्राहक के लिए ऐसा करना अनिवार्य है। केवाईसी KYC रिजर्व बैंक द्वारा शुरू की गई एक पहचान है।

जिसके तहत वह अपने ग्राहक की पहचान बहुत आसानी से सत्यापित कर सकता है। केवाईसी KYC इसलिए लाया गया ताकि बैंकों में चोरी और धोखाधड़ी जैसे कामों को रोका जा सके।

Read More: Backup ka Matlab Kya Hota Hai

केवाईसी शब्द बैंकिंग से संबंधित है, इसका उपयोग बैंक में खाता खोलते समय किया जाता है, यदि आपका बैंक में खाता है, तो आपको केवाईसी फॉर्म भरकर जमा करना होगा। यह बैंक का अपना नियम है। बैंक केवाईसी के जरिए ही अपने ग्राहकों की पहचान की पुष्टि करता है। केवाईसी का इस्तेमाल एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग को कम करने के लिए भी किया जाता है।

आज के समय में सभी बैंक और वित्तीय संस्थान अपने ग्राहकों से केवाईसी दस्तावेज उपलब्ध कराने को कहते हैं। इससे बैंकों को पता चलता है कि हमारा ग्राहक कहां रह रहा है और कोई काला धन जमा नहीं कर रहा है, उसकी आय का तरीका क्या है, बैंक इन सभी चीजों को केवाईसी के रूप में रखता है।

अगर आपको बैंक से कर्ज लेना है या किसी म्यूचुअल फंड में पैसा लगाना है तो बैंक आपके केवाईसी दस्तावेजों से पता लगा लेता है कि यह व्यक्ति धोखेबाज तो नहीं है या कोई गलत ट्रांजैक्शन तो नहीं कर रहा है। केवाईसी के माध्यम से ही बैंक धोखाधड़ी लोगों को वित्तीय धोखाधड़ी या किसी आतंकवाद से संबंधित ऐसी सभी चीजों को रोकने की अनुमति देती है।

KYC Documents जमा कैसे करें

केवाईसी KYC दस्तावेज जमा करने का कोई ऑनलाइन तरीका नहीं है, इसके लिए आपको केवल बैंक या वित्तीय संस्थान में जाकर अपना पेपर जमा करना होगा।

केवाईसी फॉर्म के साथ, आपको पहचान के प्रमाण के रूप में पासपोर्ट साइज फोटो और पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, वोटर आईडी, आधार कार्ड या बैंक पासबुक की फोटो कॉपी जमा करनी होगी।

  • वोटर कार्ड
  • ड्राइविंग लाइसेंस
  • पैन कार्ड

KYC का महत्व

केवाईसी KYC एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है, जब किसी ग्राहक को किसी कंपनी या बैंक द्वारा वित्तीय सेवा प्रदान की जाती है, तो केवाईसी KYC फॉर्म की मुख्य भूमिका उसकी पहचान करना है। केवाईसी KYC बैंकिंग प्रक्रियाओं का एक अनिवार्य और महत्वपूर्ण हिस्सा है। इससे धोखाधड़ी और लेनदेन के जोखिम को कम किया जा सकता है।

केवाईसी KYC कितने प्रकार के होते हैं

केवाईसी निम्नलिखित प्रकार के होते हैं। लेकिन सबका काम एक जैसा होता है, सबका काम आपके बारे में जानकारी हासिल करना होता है. कुछ के आपको जानकारी को डिजिटल digitally रूप से लेना होता है, आपको कुछ भौतिक physica जानकारी लेनी होती है।

Read More: Mouse ka Matlab Kya Hota Hai

ईकेवाईसी EKYC क्या है

ईकेवाईसी eKYC का फुल फॉर्म Electronic Know Your Customerहै। यह डिजिटल तरीके से ग्राहक के केवाईसी के बारे में जानने का एक तरीका है या ज्यादातर आधार आधारित ईकेवाईसी है, इसके लिए किसी भौतिक physical दस्तावेज की आवश्यकता नहीं है, इसमें आपको अपना अंगूठा बायोमेट्रिक डिवाइस biometric device पर रखना होगा ताकि आपका सारा डेटा प्राप्त हो जाए . है |

आधार ईकेवाईसी eKYC एक पेपरलेस केवाईसी प्रक्रिया है, जो इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों से आपकी पहचान (आईडी प्रूफ), एड्रेस प्रूफ और अन्य विवरणों को प्रमाणित करती है।

CKYC क्या है

CKYC का फुल फॉर्म Central Know Your Customer है। केवाईसी भारत में सभी बैंकों और वित्तीय संस्थानों द्वारा किया जाता है। लेकिन केवाईसी जो केंद्रीय स्तर पर किया जाता है, उसे हम सेंट्रल केवाईसी या सीकेवाईसी CKYC कहते हैं। केंद्रीय केवाईसी का उपयोग बीमा कंपनियों, म्यूचुअल फंड कंपनियों और एनबीएफसी आदि द्वारा किया जाता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments