Saturday, August 13, 2022
Homefull formsAC का फुल फॉर्म क्या होता है ?

AC का फुल फॉर्म क्या होता है ?

हम सभी बिजली का उपयोग करते हैं, आज सबके घर में बिजली का कनेक्शन भी होगा और आपके घर में करंट भी आएगा। आम तौर पर विद्युत धारा दो प्रकार की होती है एसी और डीसी। बिजली लाइन के माध्यम से हमारे घर में जो करंट आता है वह एसी AC करंट होता है और जब हम कोई बैटरी चार्ज करते हैं तो AC करेंट DC में बदल जाता है।

विभिन्न उपकरणों के लिए एसी धाराओं का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा जेनरेटर से उत्पन्न करंट एसी AC करंट होता है। आज हम बात करेंगे AC क्या होता है,I AC का फुल फॉर्म क्या होता है, AC को हिंदी में क्या कहते हैं ,इसके बारे में हम आपको संपूर्ण जानकारी देंगे।

AC का फुल फॉर्म

AC का फुल फॉर्म “Alternate Current” होता हैं, हिंदी में ‘अल्टरनेट करंट’ कहा जाता हैं।

AC क्या होता है?

Alternating current यानि AC एक विद्युत धारा है, यह प्रवाह के रूप में अपनी दिशा निरंतर बदलती रहती है। प्रत्यावर्ती धारा एक निश्चित समय अंतराल के बाद अपनी दिशा और मान बदलती रहती है, इसलिए इसे ‘alternating current’ भी कहा जाता है। अल्टरनेटिंग करंट alternating current में बहुत अधिक मात्रा में बिजली पैदा की जा सकती है, अल्टरनेटिंग करंट alternating current यानी एसी में 33000 वोल्ट तक बिजली पैदा की जा सकती है। अल्टरनेटिंग करंट alternating current बहुत आसानी से बनाया जा सकता है, इसलिए यह करंट बहुत महंगा नहीं है, अल्टरनेटिंग करंट का सबसे बड़ा फायदा यह है कि हम इस करंट को ट्रांसफॉर्मर की मदद से कम या ज्यादा कर सकते हैं। हम alternating current को एक स्थान से दूसरे स्थान पर बहुत आसानी से भेज सकते हैं और हम इसकी वोल्टेज को अपनी आवश्यकता के अनुसार बढ़ा या घटा सकते हैं।

Read More: RADAR ka Full Form Kya Hota Hai

Examples of AC :-

घरों में हमारे द्वारा उपयोग की जाने वाली बिजली को अल्टरनेटिंग करंट यानि एसी कहा जाता है, अल्टरनेटिंग करंट की मदद से हम बल्ब, फ्रिज, कूलर, वाशिंग मशीन, मोटर आदि चला सकते हैं। आज के समय में एसी मानव जीवन का और आधुनिक मशीनों को चलाने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है।

AC का प्रयोग

अल्टरनेटिंग करंट यानी एसी का इस्तेमाल कई क्षेत्रों में किया जाता है, आज के समय में कई ऐसे काम हैं जो बिना करंट के संभव नहीं हैं। आज के समय में alternating current का प्रयोग हर क्षेत्र में बहुत अधिक हो रहा है, प्रत्यावर्ती धारा alternating current का प्रयोग कहाँ होता है, आइए जानते हैं इसके बारे में-

  • अल्टरनेटिंग करंट का उपयोग बल्ब, फ्रिज, कूलर, वाशिंग मशीन, मोटर और हीटर आदि को चलाने के लिए किया जाता है।
  • अल्टरनेटिंग करंट का उपयोग बड़े कारखानों और कंपनियों में स्थापित मशीनों को चलाने के लिए भी किया जाता है।
  • आज के समय में ट्रेनों को चलाने के लिए अल्टरनेटिंग करंट का भी इस्तेमाल किया जाता है।
  • इन सबके अलावा कई अन्य क्षेत्रों में और विभिन्न प्रकार के कार्य करने में प्रत्यावर्ती धारा alternating current का उपयोग किया जाता है।

Read More: RO ka Full Form Kya Hota Hai

AC से हानियां

  1. अल्टरनेटिंग करंट यानी एसी से हमें कई फायदे होते हैं, लेकिन इससे हमें कुछ नुकसान भी होते हैं, एसी से हमें जो नुकसान होते हैं, वे इस प्रकार हैं-
  2. अल्टरनेटिंग करंट एक बहुत ही खतरनाक करंट होता है, इसके संपर्क में आने पर व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।
  3. इस करंट का उपयोग करते समय हमें बहुत सावधान रहना होगा, अगर जरा सी चूक हुई तो बड़ा हादसा हो सकता है।
  4. इस धारा का परिवहन बहुत महंगा होता है अर्थात इस धारा के परिवहन में बहुत अधिक व्यय होता है।

Current प्रकार :-

करंट दो प्रकार का होता है, जो इस प्रकार है-

Alternating Current (AC)

Direct Current (DC)

1. Alternating Current (AC :-

प्रत्यावर्ती धारा को हिंदी भाषा में प्रत्यावर्ती धारा भी कहा जाता है, प्रत्यावर्ती धारा एक विद्युत धारा है जो एक निश्चित समय अंतराल के बाद लगातार अपनी दिशा और मान बदलती रहती है।

उदाहरण :-

घरों में उपयोग होने वाले बल्ब, रेफ्रिजरेटर, वाशिंग मशीन, कूलर आदि को चलाने के लिए उपयोग की जाने वाली धारा को प्रत्यावर्ती धारा या प्रत्यावर्ती धारा कहते हैं।

2. Direct Current (DC) :-

डायरेक्ट करंट को हिंदी भाषा में डायरेक्ट करंट / डायरेक्ट करंट भी कहा जाता है, डायरेक्ट करंट एक ऐसा विद्युत प्रवाह है जो हमेशा एक ही दिशा में प्रवाहित होता है। इसमें हम 650 वोल्ट तक ही बिजली पैदा कर सकते हैं।

Read More: DDT ka Full Form Kya Hota Hai

उदाहरण :-

हमारे द्वारा उपयोग किए जाने वाले मोबाइल फोन की बैटरी में जो धारा प्रवाहित होती है उसे दिष्ट धारा कहते हैं। इसके अलावा रेडियो, कंप्यूटर को चलाने के लिए जिस धारा का प्रयोग किया जाता है उसे दिष्ट धारा कहते हैं।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments