बवासीर को हल्दी से कैसे दूर करें जानिए?

0
59
Bawasir

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आजकल लोग किसी ना किसी बीमारी से पीड़ित है वह बीमारी का इलाज करने के लिए तरह-तरह की दवाई का इस्तेमाल करते हैं ताकि बीमारियों का इलाज हो सके आज हम आपको ऐसे ही बीमारी के बारे में बताने वाले हैं जो कि आज हर किसी को हो रही है हम बात कर रहे हैं. बवासीर आजकल हर किसी उम्र के लोगों को हो रही है चाहे वह बच्चा हो बूढ़ा हो महिला हो या आदमी ही क्यों न हो हर किसी को बवासीर बीमारी हो रही है फिर की बीमारी की हो रही है इससे आप कैसे आराम मिल सकता है इसके बारे में आपको बताने वाले चलिए आपको उसके बारे में बताते हैं

बवासीर क्या है?

आपको बता दें कि बवासीर एक प्रकार का ऐसा रोग है जो कि गुदा के आसपास मलाशयके निचले हिस्से में नसों में सूजन आना इसके कारण खुजली जलना और रक्त आना जैसे कई लक्षण पैदा हो सकते हैं। बवासीर की गंभीर होने पर दर्द होना और बढ़ने लगता है साथ ही उठने बैठने में भी आपको समस्या हो सकती है। इसे नियंत्रण करने के लिए सबसे पहले नसों की सूजन को कम किया जाता है उसके साथ ही इसके अन्य लक्षण जैसे कि खून आना और दर्द को कम करने की कोशिश की जाती है. यह यही नहीं बल्कि कब्ज की परेशानी को दूर करके डैड में बदलाव को नियंत्रित किया जा सकता है। 

Also Read: PGDM ka Full Form Kya Hota Hai? -In Hindi- What is the Full Form of PGDM?

क्या बवासीर के लिए हल्दी फायदेमंद है जानिए इसके बारे में

हां बवासीर के लिए हल्दी फायदेमंद हो सकती है क्योंकि इसका उपयोग सालों से आयुर्वेद रूप में किया जाता है पीला सफेद हल्दी दोनों को ही बवासीर होने पर इस्तेमाल में लाया जाता है पीली हल्दी के उपयोग से आपको पाचन क्रिया ठीक करने के साथ-साथ पायल से भी राहत पहुंचाने में मदद करता है.

बवासीर के लिए हल्दी क्यों है फायदेमंद 

आपको बता दें कि बवासीर हल्दी यह बहुत ही फायदेमंद क्योंकि इसमें हल्दी के मौजूदा ग्रुप मौजूद होते हैं जो कि anti-inflammatory प्रभाव से सूजन और दर्द को कम करने में मदद करते हैं हल्दी में मौजूद कंपाउंड एंटी एजिंग गतिविधि में पाई जाती है जो की खुजली कम करने में भी मदद करती है जिसके द्वारा आप अपनी बवासीर को कम कर सकते हैं यदि आपको मलद्वार से खून आ रहा हो तो उसे भी रोकने में मदद करती है हल्दी इसी से कहा जाता है कि घर में हल्दी हल्दी से बवासीर का इलाज किया जाता है.

हल्दी से बवासीर में प्रयोग

यदि आपको बवासीर है और आप उसमें आराम पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको दूध चम्मच हल्दी लेनी है एक कटोरी दूध लेना है उसके साथ आपको आधा चम्मच सरसों का तेल लेना है अब इन तीनों मिश्रण को मिक्स करके एक पेस्ट बनाना है इस पेस्ट को आप बवासीर के लिए दही के दही में हल्दी लगाकर खा सकते हैं दही में हल्दी डालकर खाना पसंद ना हो तो दूध के साथ दिया उसका सेवन कर सकते हैं सरसों के तेल में हल्दी मिलाकर आप जहां आपको दर्द हो रहा है वहां पर आप इसका उपयोग कर सकते हैं जिससे आपको बवासीर में राहत मिलेगी क्या है.

इसके फायदे की बात की जाए तो यदि आपको बाबासीर है तो आपको हल्दी का उपयोग करने से आपको जल्दी प्रभाव मिलेगा क्योंकि इसमें कुछ ऐसे गुण पाए जाते हैं जो कि हल्दी और दही को मिलाने से इसकी ताकत बढ़ जाती है और यह आपके शरीर में हो रहे दर्द कभी काम करता है और आपके बवासीर को भी रोकने से रोकता है

Also Read: RPF ka Full Form Kya Hota Hai? -In Hindi- What is the Full Form of RPF?

हल्दी और प्याज का उपयोग 

इसके लिए आपको एक चम्मच हल्दी लेनी है आधा का आधा चम्मच प्याज का रस लेना है एक चम्मच सरसों का तेल लेना है अभी तीनों को मिक्स करके आपको एक मिश्रण बनाना है और इसे एक कटोरी में निकाल लेना है अब तीनों सामानों को अच्छे से मिक्स करके लाभ तैयार करना है। 

इस लेप को प्रभावित हिस्से पर लगाना है जैसे कि आपको बेहतर लाभ होगा और आपको बवासीर के दर्द से भी छुटकारा मिलेगा आपको बता दें कि हल्दी एक तरह की एंटी व्यक्ति प्रभा करती है इसके साथ जो बवासीर के दर्द सूजन को कम करने में मदद करती है इसके लिए आप प्याज का रस पीने से पूर्व का होने व सिर में भी आप हो रहा दिलाता है इसलिए हल्दी का सेवन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद हो सकता है,

हल्दी और एलोवेरा

का बवासीर में उपयोग यदि आप अपना बवासीर, कम करना चाहते हैं इसके लिए आपको एक चम्मच दही हल्दी लेना है और एक चम्मच एलोवेरा अब इस दोनों चीजों को मिक्स करके आपको एक पेस्ट बनाना है इस पेस्ट को आपको अपने शरीर पर लगाना है जहां आपको कुछ कमी नजर आती है आपको बता दें कि हल्दी अलबेला बवासीर का इलाज करने के लिए बहुत ही अच्छे पौधे हैं जिसकी मदद से आप अपने भविष्य को कम कर सकते हैं इसके साथ आपको तीनों को मिक्स कर लेना है और अब इसका उपयोग करना है इसके बाद से आपके बावरी की बीमारी बुरी जड़ से खत्म हो जाएगी

क्यों है फायदेमंद

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि यदि आपको है तो आप कुछ नुक्से द्वारा इसे कम कर सकते हैं तो सबसे पहले आपको हल्दी और नारियल का तेल लेना है अब इस मिश्रण को आवश्यकतानुसार अपनी आंख पर लगाना है जिससे कि आपके अच्छी सेहत मिल सके एक चम्मच दर्द में नारियल तेल की बूंदे डाल दे डाल दे इस टेस्ट कब मरा से में बावरी सेवा चित करने के बाद वहां छोड़ दें और 2 दिन बाद भी धो लें इसके बाद से आपको कुछ और चौंकाने वाले तथ्य सामने आएंगे जिससे कि आप चौक जायेंगे।

आपका हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं धन्यवाद

Also Read: IDBI ka Full Form Kya Hota Hai? -In Hindi- What is the Full Form of IDBI?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here