Thursday, August 18, 2022
Homefull formsDIY का फुल फॉर्म क्या होता है ?

DIY का फुल फॉर्म क्या होता है ?

दुनिया का हर इंसान अपने हिसाब से काम करने की कोशिश करता है। जहां कई लोग दूसरों का काम करते हैं, वहीं कई लोग ऐसे भी होते हैं जो अपना खुद का व्यवसाय करते हैं, जिनमें से कई इंजीनियर या इलेक्ट्रीशियन होते हैं, जो ज्यादातर अपना काम खुद करते हैं और कुछ काम किसी विशेषज्ञ द्वारा किया जाता है। यदि आप इसे हाथों की सहायता से करते हैं, तो इस तरह से किए गए कार्य को DIY कहा जा सकता है, क्योंकि DIY का अर्थ स्वयं द्वारा किया गया कार्य है। आज हम बात करेंगे DIY क्या होता है,DIY का फुल फॉर्म क्या होता है, DIY को हिंदी में क्या कहते हैं ,इसके बारे में हम आपको संपूर्ण जानकारी देंगे।

DIY का फुल फॉर्म

डीआईवाई का फुल फॉर्म “Do It Yourself” होता है | हिंदी में “डू इट योरसेल्फ” कहा जाता है |

डीआईवाई DIY का क्या मतलब?

  • DIY का मुख्य अर्थ यह है कि, जब हम किसी विशेष कार्य को करने के लिए उस कार्य के विशेषज्ञ से किसी प्रकार की सहायता नहीं लेते हैं, तो उस कार्य के साथ-साथ उसमें उपयोग होने वाली सभी प्रकार की वस्तुओं को स्वयं करें। साथ ही बिना किसी मदद के तैयारी करें। यदि आप ऐसा करते हैं, तो कार्य को DIY कहा जाता है। इसका मतलब यह कतई नहीं है कि आप किसी एक्सपर्ट की मदद नहीं ले पा रहे हैं या किसी हेल्पर की मदद नहीं ले सकते हैं।
  • DIY का मतलब है कि किसी खास काम को करने के लिए हम किसी स्पेशलिस्ट से मिलने की बजाय खुद करते हैं और उसमें इस्तेमाल होने वाली चीज भी बिना किसी प्रोफेशनल की मदद के खुद ही बना रहे हैं। ऐसा कतई नहीं है कि आप किसी विशेषज्ञ की मदद नहीं ले पा रहे हैं या आप उनसे काम नहीं करवा पा रहे हैं।
  • बल्कि इसका मतलब है कि आप इसे खुद करना चाहते हैं। अगर आप अपने प्रोजेक्ट को सही रास्ते पर लाने, समझने के लिए किसी किताब या यूट्यूब या ब्लॉग की मदद लेते हैं, तो यह काम अभी भी खुद ही किया जाता है। (इसे स्वयं करें) गिना जाता है। DIY वास्तव में अपने बारे में ज्ञान देता है कि हम कितने सक्षम हैं और हम क्या कर सकते हैं, आप वह काम भी कर सकते हैं जिसे करने के लिए आपको किसी और को भुगतान करना होगा।

Read More: NDTV ka Full Form Kya Hota Hai

आरसीसी क्या है ?

आरसीसी RCC का उपयोग मुख्य रूप से रूफ पोर्स के निर्माण में किया जाता है, लेकिन छत डालने से पहले कंक्रीट तैयार किया जाता है, जिसे सीमेंट, गिट्टी और रेत के मिश्रण से तैयार किया जाता है, अकेले कंक्रीट में कम कठोरता होती है। | इसलिए इसकी टेंशन स्ट्रेंथ बढ़ाने के लिए बिल्डिंग की छत को कंक्रीट से डालने में लोहे या स्टील का भी इस्तेमाल किया जाता है, जिससे इसकी मजबूती बहुत मजबूत हो जाती है, जबकि छत डालने से पहले बिल्डिंग का लेंटर डाला जाता है, जिसे डालने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए एक स्टील की जाली बिछाई जाती है, जिसके ऊपर यह कंक्रीट का मिश्रण डाला जाता है, जिसके कारण यह स्टील की जाली में मिलाकर इसे बन्धन का काम करता है, जिससे इसकी पकड़ मजबूत होती है, वही कंक्रीट और लोहे का मिश्रण ही। आरसीसी RCC कहा जाता है।

आरसीसी का फुल फॉर्म

आरसीसी का फुल फॉर्म “Reinforced Cement Concrete “ होता है | हिंदी में “रेन्फ़ोर्सेड सीमेंट कंक्रीट” कहा जाता है |

आरसीसी का इतिहास

RCC का इस्तेमाल पहली बार 1853 में फ्रांस के “Coignet” नाम के एक व्यक्ति द्वारा किया गया था। यह व्यक्ति पेरिस में चार मंजिला इमारत बनाने के लिए आरसीसी का उपयोग करने वाला पहला व्यक्ति था। इसके बाद 1854 में विलियम बी द्वारा आरसीसी का प्रयोग किया गया। फिर उस समय एक दो मंजिला मकान की छत उसका उपयोग कर लगाई गई। इसके बाद बहुत से लोगों ने डेरा प्रबलित कंक्रीट का उपयोग करना शुरू कर दिया और समय के साथ इसमें कई बदलाव किए गए और इसका बहुत उपयोग किया गया। वहीं, लगभग हर बिल्डिंग में आरसीसी का इस्तेमाल हो रहा है।

Read More: NATO ka Full Form Kya Hota Hai

आरसीसी के क्या फायदे

  • यदि आरसीसी के ढांचे का सही तरीके से उपयोग किया जाए, तो यह उससे बनी छत से ज्यादा पुराना नहीं हो सकता।
  • आरसीसी के प्रयोग में प्रयुक्त होने वाली पूरी सामग्री बहुत ही आसानी से प्राप्त हो जाती है।
  • आरसीसी से बनी इमारत की छत भूकंप का सामना कर सकती है।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments