Saturday, August 13, 2022
Homefull formsECG का फुल फॉर्म क्या होता है ?

ECG का फुल फॉर्म क्या होता है ?

ECG एक ऐसी तकनीक है जिसका उपयोग चिकित्सा क्षेत्र में किया जाता है। इस मशीन से मरीज की हार्ट बीट heart beat नापी जाती है। आपने अक्सर फिल्मों या टीवी शो में देखा होगा कि डॉक्टर दिल की धड़कन को देखने के लिए मशीन का इस्तेमाल करते हैं। जिसमें एक ग्राफ हिलता हुआ नजर आ रहा है और उसके साथ नंबर भी हैं। यह खुद ग्राफ और नंबर ही है, जिससे डॉक्टर आसानी से पता लगा सकते हैं कि मरीज का दिल सामान्य रूप से काम कर रहा है। फिर सामान्य से तेज या धीमी गति से काम करना।.आज हम बात करेंगे ECG क्या होता है,ECG का फुल फॉर्म क्या होता है,ECG को हिंदी में क्या कहते हैं ,इसके बारे में हम आपको संपूर्ण जानकारी देंगे।

ECG का फुल फॉर्म

ECG का फुल फॉर्म Electrocardiogram होती है. हिंदी में विद्युतयंत्र द्वारा हृदय की धड़कनो का रेखाचित्रण कहते है.

ECG क्या होता है?

ईसीजी-electrocardio diagram एक परीक्षण के रूप में होता है, जो आमतौर पर आपके दिल की विद्युत गतिविधि की जांच के लिए किया जाता है।जहां यह आपको बताता है कि सामान्य विद्युत गतिविधि इंगित indicates करती है कि आपका हृदय सामान्य रूप से कार्य कर रहा है।

इस प्रक्रिया के माध्यम से हृदय की विद्युत गतिविधि को कागज पर रेखा अनुरेखण द्वारा दर्शाया जाता है, जो एक तरंग की तरह दिखती है। यदि आपको हृदय दोष, या किसी प्रकार की समस्या है, तो यह प्रक्रिया की जाती है, जिसे जोखिम मुक्त प्रक्रिया माना जाता है। यह आपके शरीर पर विशिष्ट स्थानों जैसे हाथ, पैर या छाती पर इलेक्ट्रोड electrodes लगाकर किया जाता है।

ईसीजी(ECG) की आवश्यकता क्यों होती है?

  • Thickness of the walls of the chambers of the heart
  • Heart enlargement
  • Bbnormal heart rhythm
  • Heart attack in the past
  • Cholesterol accumulation due to chest pain
  • Person suffering from diabetes, high blood pressure

आपको बता दें कि एक ईसीजी ECG आपके दिल की विद्युत गतिविधि की एक तस्वीर रिकॉर्ड करने में सक्षम है, लेकिन यह तभी संभव हो सकता है जब आपकी निगरानी की जा रही हो।

इस प्रक्रिया से आपके दिल से जुड़ी हर बात का पता चल जाता है। उदाहरण के लिए, यदि आपको पूर्व में दिल का दौरा पड़ा हो, सीने में दर्द, सांस लेने में कठिनाई के कारण, जिससे आप पीड़ित हैं, तो ईसीजी ECG करना आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।

Read More: FASTag Kya Hai

आपको बता दें कि आपके स्ट्रेस टेस्ट और दिल की गतिविधियों का पता लगाने के लिए हमें ईसीजी ECG टेस्ट की जरूरत होती है।

ECG के प्रकार

  1. Resting ECG
  2. Ambulatory ECG
  3. Stress or Exercise ECG
  4. Resting ECG

यह परीक्षण तब किया जाता है जब रोगी आरामदायक स्थिति में लेटा हो।

Ambulatory ECG

इसमें रोगी को कमर पर एक छोटी सी मशीन पहननी होती है। इसमें मरीज अपने घर जा सकता है और अपना काम फिर से शुरू कर सकता है। यह एक या अधिक दिनों तक हृदय की निगरानी करने में मदद करता है।

Stress or Exercise ECG

यह परीक्षण तब किया जाता है जब आप ट्रेडमिल या व्यायाम बाइक का उपयोग कर रहे हों।

क्या ईसीजी का कोई दुष्प्रभाव होता है?

हम आपको बता दें कि आमतौर पर देखा जाता है कि ईसीजी ECG करने से शरीर को आमतौर पर कोई नुकसान नहीं होता है, लेकिन शरीर के उन हिस्सों को हटाने के बाद जहां इलेक्ट्रोड electrodes लगाए जाते हैं, वहां सूजन और रैशेज हो सकते हैं।

ध्यान रखें कि यदि आप प्रतिदिन इलेक्ट्रोड electrodes नहीं निकालते हैं, तो लगाम मॉनिटर आपकी त्वचा में जलन पैदा कर सकता है।

ईसीजी ECG के लाभ

  • अक्सर लोगों के मन में यह धारणा रहती है कि ईसीजी टेस्ट ECG test बहुत महंगा है।
  • लेकिन आपको बता दें कि ऐसा कुछ भी नहीं है, न ही यह बहुत महंगा है और न ही टेस्ट कराने के दौरान किसी तरह का शारीरिक दर्द महसूस होता है।
  • यह टेस्ट आप किसी भी अस्पताल में लगभग 100 से ₹500 के अंदर बहुत ही आसानी से करवा सकते हैं तो ऐसे में हम आपको बताने जा रहे हैं कि ईसीजी टेस्ट के क्या-क्या फायदे हैं:-

Heart’s Electric Access

आपको शायद इस बात की जानकारी न हो, लेकिन हम आपको बता दें कि, यह हृदय की सही विद्युत पहुंच को निर्धारित करने और हृदय की विभिन्न समस्याओं के निदान में उपयोगी माना जाता है।

Read More: Artificial Intelligence ko Hindi me Kya Kehte Hai

Heart rate

  1. यह उस समय को संदर्भित करता है जिसके द्वारा एक व्यक्ति का दिल प्रति मिनट धड़कता है।
  2. पुरुषों के लिए नियमित हृदय गति 60 से 80 के बीच होती है। महिलाओं के लिए यह 70 और 90 के बीच होती है।

Heart test

  • यह एक ऐसा कॉम्बिनेशन है जिसके जरिए आप दिल की समस्याओं का आसानी से निदान diagnose कर सकते हैं।
  • आप आसानी से जांच सकते हैं कि आपका दिल स्वस्थ है या नहीं, इस प्रक्रिया से आप अपने दिल की पूरी निगरानी कर सकते हैं।

आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसे लेगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं ,यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments