Thursday, August 18, 2022
Homefull formsDAC फुल फॉर्म क्या है?

DAC फुल फॉर्म क्या है?

आपको बता दें कि DAC का फुल फॉर्म होता है डिजिटल टो एनालॉग कन्वर्टर Digital to Analog Converter इसे अक्सर पुकारा जाता है DAC क्योंकि कंप्यूटर केवल डिजिटल इंफॉर्मेशन को ही समझ सकता है इसलिए जो आउटपुट उत्पन्न होता है कंप्यूटर वह डिजिटल फॉर्मेट में ही समझ पाता है.लेकिन कुछ आउटपुट डिवाइस केवल एनालॉग इनपुट ही समझ पाते हैं इसका मतलब है कि एक डिजिटल टो एनालॉग कन्वर्टर digital to analog converter है. DAC को समझ पाता है.

सबसे ज्यादा इस्तेमाल DAC का डिजिटल ऑडियो को लोग सिग्नल में कन्वर्ट किया जा सकता है यह कन्वर्सेशन conversion होता है साउंड कार्ड में जिसमें की built-in DAC उपलब्ध होता है.

डिजिटल सिग्नल digital signal जो एक ही एक असल में एक स्ट्रीम होती है ones और zeros में ट्रांसफर किया जा सकता है एक एनालॉग सिग्नल में जो कि बाद में एक इलेक्ट्रिकल चार्जर का आकार ले लेती है, इसे इलेक्ट्रिकल चार्जर को recognize कर लिया जाता है, ज्यादातर स्पीकर इनपुट के द्वारा और उसके बाद आउटपुट को भेजा जाता है कि speaker system को.

आपको बता दें कि DAC का इस्तेमाल वीडियो सिग्नल को कन्वर्ट करने के लिए होता है यदि हम पुराने समय की बात करें तो ज्यादातर वीडियो डिस्प्ले जैसे कि टीवी और कंप्यूटर मॉनिटर इस्तेमाल करते हैं एनालॉग इनपुट को.कुछ ही वर्षो के पहले digital displays वो भी DVI और HDMI connections के साथ ज्यादा इस्तमाल में लाया जा रहा है.

इसलिए एक कंप्यूटर को output करने के लिए एनालॉग डिस्प्ले में डिजिटल वीडियो सिगनल को कन्वर्ट करना होता है. और एक एनालॉग सिग्नल में बदलना होता है. यही कारण है कि सभी वीडियो कार्ड में जिसमें की एक एनालॉग आउटपुट जैसे की एक VGA connection हो) हो उनमें एक DAC भी जरुर से होना चाहिए.

डीएसी DAC का फुल फॉर्म

DAC का फुल फॉर्म हिंदी में डिजिटल एनालॉग Digital Analog कन्वर्टर होता है जिस का फुल फॉर्म से ही स्पष्ट होता है कि है कंप्यूटर में है डिजिटल डाटा digital data को लेता है और फिर से डाटा को analog signal में बदल देता है. डिजिटल डाटा digital data जैसे ऑडियो वीडियो इत्यादि अन्य तरह के डिजिटल डाटा को लेकर उसे DAC डिजिटल से एनालॉग सिगनल analog signal में बदलकर एक एंपलीफायर में भेज देता है। जिसके बाद आप ऑडियो और वीडियो को एनालॉग सिगनल के रूप में सुन सकते हैं क्योंकि कंप्यूटर डिजिटल डाटा को डिजिटल इंफॉर्मेशन को सिग्नल के रूप में समझता है इसलिए DAC की कंप्यूटर को डिजिटल डाटा बदलकर करके एनालॉग सिग्नल के रूप में देता है.

• D – DIGITAL TO

• A – ANALOG

• C – CONVERTER

जिसकी वजह से आप अपनी कंप्यूटर लैपटॉप और मोबाइल में डिजिटल डाटा ऑडियो डिजिटल वीडियो को सुन पाते हैं यह सब संभव हो पाया है सिर्फ DAC की वजह से.

Read More: Website ko Hindi me Kya Kehte Hai

DAC क्या है?

DAC 1 डिजिटल टो एनालॉग कन्वर्टर digital to analog converter डिवाइस है जोकि डिजिटल डाटा को एनालॉग सिगनल digital data into analog signal में बदलता है. जैसा कि हम जानते हैं कि कंप्यूटर केवल डिजिटल डाटा को ही समझ पाता है और हमें आउटपुट के रूप में डिजिटल डाटा ही मिलता है एक DAC की मदद से हम हम Digital Data or Sample Data को सटीक रूप से Analog Signal में फिर से संगठित कर सकते है।

उदाहरण के लिए माइक्रोफोन microphone एक ऑडियो सिगनल उपकरण एनालॉग डाटा को इकट्ठा करके एक डिजिटल सिग्नल digital signal में बदल देता है। एक कंप्यूटर की मदद से हम इस डिजिटल डाटा को संशोधित कर सकते हैं. इसमें कुछ अलग से साउंड इफेक्ट डाल सकते हैं. अब डिजिटल साउंड सिग्नल को एनालॉग सिगनल analog signal में वापस कन्वर्ट करके जो कि ऑडियो आउटपुट उपकरण जैसे स्पीकर उपयोग करेगा.

DAC क्यों जरूरी है

किसी भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण के लिए डिजिटल डाटा और एनालॉग सिगनल Digital Data और Analog Signal बहुत ही जरूरी है और डाटा को manipulate करते समय हम DAC की जरूरत होती है। बिना DAC  के इस्तेमाल किए कोई भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण काम नहीं कर पाएगा। DAC की मदद से हम आज के समय में इतने एडवांस इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बना पाए हैं।

आपको बता दें कि हम आसानी से समझने के लिए एक उदाहरण लेते है, दो व्यक्ति हैं जिनमें केवल एक हिंदी जानता है दूसरा केवल अंग्रेजी भाषा जब वह दोनों आपस में कम्युनिकेशन करेंगे तो कोई भी एक दूसरे की बातें समझ नहीं पाएगा दोनों के मध्य अच्छे से कम्युनिकेशन करने के लिए एक ट्रांसलेटर की जरूरत होगी जो उन दोनों को एक दूसरे की भाषा में ट्रांसलेट करके समझा सके ठीक उसी तरह एक डिजिटल डाटा को एनालॉग डिवाइसेज कम्युनिकेट करना होता है जो तो वह काम DAC करता है.

DAC के उपयोग

DAC का उपयोग ऑडियो एम्पलीफायर में किया जाता है जिसका उपयोग माइक्रोकंट्रोलर कमांड के साथ DC वोल्टेज लाभ उत्पन्न करने के लिए किया जाता है।

वीडियो एन्कोडर में डीएसी DAC का उपयोग किया जाता है, वीडियो एन्कोडर सिस्टम एक वीडियो सिग्नल को संसाधित करने के लिए काम करता है जिसमे Output स्तरों के अनुकूलन के साथ-साथ विभिन्न प्रारूपों के Analog Video Signal का उत्पादन होता है।

DAC का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक्स डिस्प्ले में किया जाता है जो डिस्प्ले को चलाने के लिए एनालॉग आउटपुट जैसे रेड, ग्रीन, ब्लू (RGB) सिग्नल देता है।

DAC का उपयोग डिजिटल पोटेंशियोमीटर में किया जाता है।

DAC का उपयोग मोटर कंट्रोल सिस्टम के लिए भी किया जाता है जो वोल्टेज कंट्रोल सिग्नल भेजने का काम करता है।

DAC की कमियां

DAC, Accurate Voltage को पैदा नहीं कर सकता यह कई वोल्टेज चरणों का उत्पादन कर सकता है जैसे कि बायनरी नंबर की अनुमति देती है अगर सीधे शब्दों में बात की जाए तो यह Continues Voltage Value देने में असमर्थ है.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी हो, तो अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करना ना भूले यदि आपका कोई सुझाव है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments