Friday, October 7, 2022
HomeBusinessएडवर्टाइजमेंट advertisement को हिंदी में क्या कहते हैं?

एडवर्टाइजमेंट advertisement को हिंदी में क्या कहते हैं?

आज हम बात करेंगे एडवर्टाइजमेंट advertisement को हिंदी में क्या कहते हैं और एडवर्टाइजमेंट advertisement क्या होती है, लोग कैसे  advertisement करते हैं, इसके क्या फायदे होते हैं और क्या नुकसान होते हैं। इसके बारे में हम आपको विस्तारपूर्वक बताएंगे तो चलिए आपको उसके बारे में बताते हैं।

हम आपको बता दें कि एडवर्टाइजमेंट advertisement को हिंदी में विज्ञापन कहा जाता है. आपको बता दें जो आप अपनी मूवीस या टीवी सीरियल के बीच में जो थोड़े समय के लिए ब्रेक आता है उसमें आपको कुछ ऐड्स दिखाई जाती हैं उस एप्स को ही हम विज्ञापन कहते हैं या एडवर्टाइजमेंट advertisements कहा जाता है यह 30 सेकंड की spot एक कैची सेंटेंसेस चतुराई से लिखी गई, स्लोगन हम अक्सर अपने टीवी में देखते हैं उन्हें विज्ञापन  advertisements कहते हैं. एक सर्वे के अनुसार एवरेज इंसान दिन में करीब 5000 से भी ज्यादा एडवर्टाइजमेंट advertisements मैसेज पड़ता है यह एडवरटाइजमेंट advertisements बहुत से shapes, sizes, और आकार में होती हैं.

विज्ञापन क्या है (What is Advertisement in Hindi)

आपको बता दें कि विज्ञापन advertisement लिखना एक ऐसा कार्य होता है जिसमें की जनता का ध्यान को कैसे और कैसे अपनी और आकर्षित करना है उसे विज्ञापन कहा  advertisement जाता है ,आपको बता दें कि ज्यादातर ‘paid announcements’ की और उसमें ध्यान देने वाली बात यहां की यह है कि एडवरटाइजिंग को किसी एक प्रकार तक लिमिट नहीं किया गया है ,जैसे कि प्रिंट मीडिया टेलीविजन इंटरनेट को दूसरा तरीके से आप advertisement कर सकते हैं वही यह ज्यादा जो और ‘paid announcements‘ पर देते हैं लेकिन असल में यह कोई रिक्वायरमेंट नहीं है वही attention अपनी तरफ खींचने के लिए एडवाइजमेंट का उपयोग ज्यादा किया जाता है.

विज्ञापन का अर्थ

जहां विज्ञापन की कई व्यवसाय-विशिष्ट business-specific definitions परिभाषाएं जाती हैं, वह यह है कि विज्ञापन वास्तव में गैर-व्यक्तिगत non-personal है। यह अंतर कभी-कभी महत्वपूर्ण भी होता है क्योंकि कई जगहों पर व्यवसायों द्वारा आमने-सामने की बिक्री की भूमिका निभाई जाती है। जबकि एक बिक्री बल को अक्सर एक विपणन रणनीति marketing strategy माना जाता है, न कि एक विज्ञापन रणनीति advertising strategy ।

सरल भाषा में बात की जाए तो एडवर्टाइजमेंट एक ऐसा पेड़ फॉर्म होती है जो कि non-personal presentation  की और प्रमोशन का आईडिया गुड्स या सर्विस स्पॉन्सर के द्वारा ही की जाती है वह इन्हें ऐसी उद्देश्य से बनाया गया होता है कि यह एक टारगेटेड सेट के ऑडियंस को ज्यादा प्रभावित कर सके या खरीदने के लिए मना कर सकें।

Read More: Sensex ko Hindi me Kya Kehte Hai

विज्ञापनों की विशेषताएं Features of Ads

1. Paid Form का होना :  एडवर्टाइजमेंट में जरूरत होती है अगर टाइट एडवरटाइजर जिसको कि हम स्पॉन्सर भी कहते हैं वह पे करें एक ऐसा एडवर्टाइजमेंट मैसेज बनाने के लिए जिसमें उन्हें एडवरटाइजिंग मीडिया स्लॉट खरीदना पड़े।  और advertising efforts को monitor भी किया जा सके.

2. प्रचार के लिए उपकरण Tools for Promotion: विज्ञापन किसी एक संगठन के लिए प्रचार को मिलाने का एक तत्व है।

3. एकतरफा संचार है One-way communication:: विज्ञापन एकतरफा संचार है जहां ब्रांड विभिन्न माध्यमों से ग्राहकों के साथ संवाद करते हैं।

4. व्यक्तिगत या गैर-व्यक्तिगत होना Being personal or non-personal:: टीवी, रेडियो, या समाचार पत्रों के विज्ञापनों के संदर्भ में विज्ञापन या तो गैर-व्यक्तिगत हो सकता है, या यह सोशल मीडिया और अन्य कुकी-आधारित विज्ञापनों के मामले में अत्यधिक व्यक्तिगत भी हो सकता है।

विज्ञापन का उद्देश्य क्या है?

जानकारीपूर्ण विज्ञापन होना

एक नई उत्पाद श्रेणी के अग्रणी चरण में सूचनात्मक विज्ञापन बहुत महत्वपूर्ण है। इसका मूल लक्ष्य प्राथमिक मांग बनाना है।

इस लक्ष्य का समर्थन करने के लिए, सूचनात्मक विज्ञापन एक नए उत्पाद या सेवा की विशेषताओं के बारे में जानकारी प्रदान करता है ताकि यह ग्राहकों के दिमाग में निर्णय लेने की प्रक्रिया शुरू कर सके।

उदाहरण के लिए, दूध की आपूर्ति करने वाली कंपनी को अपने उपभोक्ताओं को दूध के पोषण संबंधी लाभों के बारे में सूचित करना होता है।

विज्ञापनों का उपयोग लक्ष्य बाजार में ब्रांड जागरूकता और ब्रांड प्रदर्शन को बढ़ाने के लिए किया जाता है। अपने व्यावसायिक लक्ष्यों को पूरा करने के लिए सही ग्राहकों को ब्रांड के बारे में जानकारी प्रदान करना इसमें पहला कदम है।

Persuasive Advertising का होना

प्रतिस्पर्धी चरण में प्रेरक विज्ञापन अधिक प्रासंगिक हो जाते हैं। इसमें कंपनी का उद्देश्य किसी विशेष ब्रांड के लिए चुनिंदा मांग पैदा करना है।

इसमें ग्राहकों को यह दिखाना होता है कि उसके उत्पाद और सेवाएं उसके प्रतिद्वंद्वी उत्पादों या सेवाओं की तुलना में अधिक मूल्य प्रदान करती हैं।

उदाहरण के लिए, टोयोटा अपने उपभोक्ताओं को बताती है कि उनकी कारें मारुति सुजुकी कारों की तुलना में अधिक आरामदायक हैं।

चूंकि प्रेरक विज्ञापन में तुलनात्मक विज्ञापन का उपयोग किया जाता है, जिसमें इन दो और ब्रांडों के बीच स्पष्ट तुलना करनी पड़ती है।

इसलिए, कुछ देशों में तुलनात्मक विज्ञापन की अनुमति नहीं है। इस प्रक्रिया में ग्राहकों को एक विशेष कार्य करने के लिए प्रेरित करना ताकि उनके विज्ञापन के उद्देश्य को पूरा किया जा सके।

इस कार्य में पेश किए जाने वाले उत्पादों और सेवाओं को आजमाना होता है, ताकि एक ब्रांड छवि बनाई जा सके, जबकि ब्रांड के प्रति अनुकूल रवैया विकसित करना होगा।

Reminder Advertising का होना

अंत में, परिपक्व उत्पादों के मामले में अनुस्मारक विज्ञापन अधिक प्रासंगिक हो जाते हैं।

ऐसे चरण में, उपभोक्ता उत्पाद की विशेषताओं के बारे में बहुत जानकार होते हैं। साथ ही वे इसके लाभों से उत्साहित भी हैं। लेकिन ग्राहकों को यह याद दिलाने के लिए कि उन्हें यह उत्पाद अवश्य खरीदना चाहिए, इसके लाभों को बार-बार दोहराना पड़ता है।

उदाहरण के लिए गर्मियों में आपको कोल्ड ड्रिंक्स के अधिक विज्ञापन दिखाई देते हैं, वह भी हर दिन बार-बार। यह काम सिर्फ सॉफ्ट ड्रिंक्स की याद दिलाने के लिए किया जाता है।

विज्ञापन के उदाहरण

सभी कंपनियों को अपने उत्पादों का विज्ञापन करने की आवश्यकता है ताकि वे बाजार में ब्रांड वैल्यू बनाते हुए अपनी बिक्री बढ़ा सकें, बाजार मूल्य हासिल कर सकें।

जबकि ये व्यवसाय इन विज्ञापनों में बहुत पैसा खर्च करते हैं, लेकिन जो इन तरीकों का सबसे अच्छा उपयोग करते हैं वे अंत में सफल होते हैं। आइए जानते हैं कुछ ऐसी तकनीकों के बारे में जिनका इस्तेमाल विज्ञापनों में किया जाता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments