Saturday, August 13, 2022
HomeBusinessसेंसेक्स Sensex  को हिंदी में क्या कहते हैं?

सेंसेक्स Sensex  को हिंदी में क्या कहते हैं?

सेंसेक्स Sensex  एक प्रकार का सूचकांक है, इसे आमतौर पर स्टॉक एक्सचेंज सेंसिटिव इंडेक्स के रूप में भी जाना जाता है, सेंसेक्स भारत का सबसे पुराना स्टॉक मार्केट इंडेक्स है. आपको बता दें कि इसकी शुरुआत 1986 में हुई थी हम बात करें इसके काम की तो सेंसेक्स Sensex मुंबई स्टॉक एक्सचेंज के शेयर्स के भाव में होने वाले तेजी मंदी को बताती है. सेंसेक्स Sensex के अंदर लगभग 30 कंपनी आती हैं. सेंसेक्स Sensex के अंदर काम करने वाली कंपनियों के शेयर में उतार-चढ़ाव पर नजर रखती है यह आज के समय में इंडियन जीडीपी का कुल 36% है.

सेंसेक्स  Sensex  की परिभाषा हिंदी में

आपको बता दें कि SensEx भारत देश के बहुत ही खूबसूरत शहर मुंबई में स्थित शेयर बाजार S&P BSE का सूचकांक है। बीएससी BSE का फुल फॉर्म मुंबई स्टॉक एक्सचेंज है जबकि SensEx Sensitive IndEx  से मिलकर बना है, आपको बता दें कि SensEx Sensitive IndEx  का अर्थ संवेदी सूचकांक सेंसेक्स होता है जैसे कि हम सभी जानते हैं आज के समय में मुंबई शेयर बाजार में रजिस्टर और मार्केट कैप के हिसाब सबसे 30 बड़ी कंपनियों का ही इंडेक्स किया जाता है.

 अगर हम और सरल शब्दों में कहें तो SensEx के घटने बढ़ने से यह पता चलता है कि देश की बड़ी कंपनियों को profit हो रहा है या loss हो रहा है. SensEx की शुरुआत 1 जनवरी 1986 में हुई थी इसमें  से 30 कंपनियां इसमें शामिल की गई हैं और यह कंपनियां समय के साथ बदलती रहती हैं इस कंपनी को चुनने के लिए एक कमेटी बनाई गई है इस कंपनियों को लेकर आने के कारण इसे मुंबई स्टॉक एक्सचेंज के नाम से भी जाना जाता है.

किसी भी सूचीबद्ध कंपनी listed company को सूचकांक index में शामिल करने के लिए, उसे ‘बीएसई’ के 100 मार्केट कैप वाली कंपनियों में से एक होना चाहिए, और इसकी कुल मार्केट कैप बीएसई के कुल मार्केट कैप के 0.5% से अधिक होनी चाहिए। किसी भी सूचीबद्ध कंपनी को सूचकांक में शामिल करने के लिए ‘बीएसई’ BSE’ के 100 मार्केट कैप वाली कंपनियों में से एक होना चाहिए, और इसकी कुल मार्केट कैप बीएसई BSE’ के कुल बाजार के 0.5% से अधिक होनी चाहिए,

भारत में मुख्य रूप से दो एक्सचेंज हैं पहला बीएसई ( बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) (Bombay Stock Exchange) और एक अन्य ‘एनएसई’ (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) ‘NSE’ (National Stock Exchange) को बीएसई के लिए ‘सेंसेक्स’ और एनएसई के लिए ‘निफ्टी’ के रूप में जाना जाता है। ”Sensex का आधार वर्ष 1 अप्रैल 1979 माना जाता है। इसकी गणना 100 के रूप में की जाती है, इसकी गणना फ्री फ्लोट बाजार पूंजीकरण पद्धति के आधार पर की जाती है। इस पद्धति के लिए, सबसे सक्रिय 30 कंपनियों को BSE से लिया जाता है, और उसके बाद इन कंपनियों के ‘फ्री फ्लोट मार्केट कैप’ की गणना की जाती है।

Read More: Advertisement ko Hindi me Kya Kehte Hai

सेंसेक्स की गणना कैसे की जाती है? How is Sensex Calculated?

जैसा कि आप जानते ही होंगे कि गणना calculation के लिए आधार वर्ष 1978-1979 तक चुना गया है।  उस समय सेंसेक्स का बेस प्राइस सिर्फ 100 रुपए रखा गया था। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की गणना calculation पहली बार वर्ष 1986 में की गई थी और 1 सितंबर 2003 से सेंसेक्स की गणना calculation फ्री फ्लोट विधि द्वारा की जा रही है।

फ्री फ्लोट मेथड (FFM) में कंपनी के जो भी शेयर मौजूद होते हैं, उन्हें हमेशा पब्लिक ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध रखा जाता है, और इनमें से सरकार का हिस्सा निकाल लिया जाता है, और जो बचा रहता है, उसे बाजार में रख दिया जाता है। सार्वजनिक व्यापार के माध्यम से। के लिए उपलब्ध कराया गया है। इसे नीचे दिए गए उदाहरण से समझें।

उदाहरण- मान लीजिए कोई कंपनी A है, कंपनी के पास कुल शेयरों shares की संख्या 1000 है, जिसमें से 300 शेयर प्रमोटरों के पास हैं और 700 शेयर जनता के पास हैं। तो ये 700 शेयर जो जनता के पास हैं उन्हें फ्री फ्लोट शेयर float shares कहा जाएगा।

सेंसेक्स मुख्य रूप से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का प्रतिनिधित्व करने वाला एक सूचकांक है जिसे 1875 में स्थापित किया गया था। स्टॉक एक्सचेंज का 1 जनवरी 1986 तक कोई आधिकारिक सूचकांक नहीं था। यह वह समय था जब भारतीय बाजार के प्रदर्शन को मापने के लिए सेंसेक्स को चुना गया था। सेंसेक्स में 30 प्रमुख स्टॉक शामिल हैं जो सेक्टरों से प्राप्त होते हैं और एक्सचेंज मार्केट में सक्रिय रूप से कारोबार करते हैं। सेंसेक्स वास्तव में भारतीय शेयर बाजार की चाल को दर्शाता है। यदि सेंसेक्स का मूल्य बढ़ता है, तो इसका मतलब है कि शेयरों की कीमतों में सामान्य वृद्धि हुई है। वहीं, अगर सेंसेक्स में गिरावट आती है तो इसका मतलब है कि शेयरों की कीमत में सामान्य गिरावट है।

आप एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स के माध्यम से शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव की पहचान कर सकते हैं। 19 फरवरी, 2013 से, BSE और S&P डॉव जोन्स इंडेक्स सेंसेक्स की गणना के लिए गठबंधन करते हैं। निफ्टी भारत में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के लिए गणना की जाने वाली दूसरी इंडेक्स है।

सेंसेक्स में बीएसई पर 30 सबसे बड़े और सबसे सक्रिय रूप से कारोबार करने वाले स्टॉक शामिल हैं। जो भारत की अर्थव्यवस्था का एक गेज प्रदान करता है। सेंसेक्स भारत के सबसे पुराने स्टॉक इंडेक्स में से एक है, सेंसेक्स का उपयोग निवेशकों द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था के समग्र विकास, विकास, उतार-चढ़ाव के विकास के लिए किया जाता है।

सेंसेक्स सेंसिटिव इंडेक्स यानी सेंसिटिव इंडेक्स का संक्षिप्त नाम है। मुंबई स्टॉक एक्सचेंज का संवेदनशील सूचकांक जिसे संक्षेप में बीएसई 30 या बीएसई सेंसेक्स के रूप में भी जाना जाता है। वहां के शीर्ष 30 शेयरों के आधार पर। सेंसेक्स की तरह निफ्टी भी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का इंडेक्स है और वहां के पचास शेयरों पर आधारित है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments